Indian Contract Act in Hindi

 Indian Contract Act in Hindi :

संविदा कानून भारत में संविधा से सम्बंधित कानून है जो कि भारत में होने वाले एग्रीमेंट,कॉन्ट्रैक्ट आदि के बारे में कि वो किस कानून के किस प्रावधान के अनुसार संविदा करने वालों पर लागु होंगे।  भारत का संविदा कानून 1872 में अंग्रेजों के राज के समय बनाया गया था।  इसके कुछ हिस्से बाद में हटा दिए गए और उनको अलग कानून के रूप में बनाया गया।  तक़रीबन 150 साल बीत जाने के बाद भी इंडियन कॉन्ट्रैक्ट एक्ट आज भी उतना ही रिलेवेंट है जितना कि जिस समय बनाया गया था।  या ये कहा जा सकता है कि आज संविदा कानून पहले से ज्यादा जरुरी हो गया है क्योंकि देश में व्यापर तथा काम धंधों में बहुत बढ़ोतरी हुई है। 

भारतीय संविदा कानून कि धारा लिस्ट :

1 - संक्षिप्त नाम (Short title).

2 - निर्वचन खंड (Interpretation clause).

3 - प्रस्थापनाओं की संसूचना, प्रतिग्रहण और प्रतिसंहरण (Communication, acceptance and revocation of proposals)

4 - संसूचना कब सम्पूर्ण हो जाती है (Communication when complete)

5 -प्रस्थापनाओं और प्रतिग्रहणों का प्रतिसंहरण (Revocation of Proposals and acceptance)

6 - प्रतिसंहरण कैसे किया जाता है (Revocation how made)

7 - प्रतिग्रहण आत्यन्तिक होना ही चाहिए (Acceptance must be absolute)

8 - शर्तों के पालन या प्रतिफल की प्राप्ति द्वारा प्रतिग्रहण(Acceptance by performing conditions, or receiving consideration)

9 - वचन, अभिव्यक्त और विवक्षित (Promises, express and implied)

10 - कौन से करार संविदाएँ हैं(What agreements are contracts)

11 - संविदा करने के लिए कौन सक्षम है(Who are competent to contract)

12 - संविदा करने के प्रयोजनों के लिए स्वस्थचित्त क्या है (What is a sound mind for the purposes of contracting)

13 - सम्मति की परिभाषा (Consent defined)

14 - स्वतंत्र सम्मति की परिभाषा (Free consent defined)

15 - “प्रपीड़न" की परिभाषा ('Coercion' defined)

16 - “असम्यक् असर" की परिभाषा (Undue influence' defined)

17 - “कपट" की परिभाषा ('Fraud' defined)

18 - दुर्व्यपदेशन की परिभाषा

19 - स्वतंत्र सम्मति के बिना किए गए करारों की शून्यकरणीयता(Voidability of agreements without free consent)

19 A - असम्यक् असर से उत्प्रेरित संविदा को अपास्त करने की शक्ति(Power to set aside contract induced by undue influence)

20 - जबकि दोनों पक्षकार तथ्य की बात संबंधी भूल में हों, तब करार शून्य है (Agreement void where both parties are under mistake as to matter of fact)

21 - विधि के बारे में भूलों का प्रभाव (Effect of mistakes as to law)

22 - एक पक्षकार की तथ्य की बात के बारे की भूल से कारित संविदा(Contract caused by mistake of one party as to matter of fact)

23 - कौन से प्रतिफल और उद्देश्य विधिपूर्ण हैं और कौन से नहीं (What consideration and objects are lawful, and what not)

24 - यदि प्रतिफल और उद्देश्य भागतः विधिविरुद्ध हों तो करार शून्य होंगे (Agreements void, if considerations and objects unlawful in part)

25 - प्रतिफल के बिना करार शुन्य है (Agreement without consideration)

26 - विवाह का अवरोधक करार शून्य है (Agreement in restraint of marriage)

27 - व्यापार का अवरोधक करार शून्य है (Agreement in restraint of trade, void)

28 - विधिक कार्यवाहियों के अवरोधक करार शून्य हैं (Agreements in restraint of legal proceedings, void)

29 - करार अनिश्चितता के कारण शून्य है (Agreements void for uncertainty)

30 - पंद्यम् के तौर के करार शून्य हैं (Agreements by way of wager, void)

31 - समाश्रित संविदा की परिभाषा (Contingent contract defined)

32 - ऐसी संविदाओं का प्रवर्तन, जो किसी घटना के घटित होने पर समाश्रित हों (Enforcement of contracts contingent on an event happening)

33 - उन संविदाओं का प्रवर्तन जो किसी घटना के घटित न होने पर समाश्रित हों (Enforcement of contracts contingent on an event not happening)

34 - जिस घटना पर संविदा समाश्रित है, यदि वह किसी जीवित व्यक्ति का भावी आचरण हो तो वह घटना कब असंभव समझी जाएगी

35 - संविदाएँ जो नियत समय के भीतर विनिर्दिष्ट घटना के घटित होने पर समाश्रित हों, कब शुन्य हो जाती है (When contracts become void, which are contingent on happening of specified event within fixed time)

36 - असम्भव घटनाओं पर समाश्रित करार शुन्य हैं (Agreements contingent on impossible event void)

37 - संविदाओं के पक्षकारों की बाध्यता (Obligation of parties to contract)

38 - पालन की प्रस्थापना प्रतिगृहीत करने से इन्कार का प्रभाव (Effect of refusal to accept offer of performance)

39 - वचन का पूर्णतः पालन करने से पक्षकार के इन्कार का प्रभाव (Effect of refusal of party to perform promise wholly)

40 - वह व्यक्ति जिसे वचन का पालन करना है (Person by whom promise is to be performed)

41 - अन्य व्यक्ति से पालन प्रतिगृहित करने का प्रभाव (Effect of accepting performance from third person)

42 - संयुक्त दायित्वों का न्यागमन (Devolution of joint liabilities)

43 - संयुक्त वचनदाताओं में से कोई भी पालन के लिए विवश किया जा सकेगा (Any one of joint promisors may be compelled to perform)

44 - संयुक्त वचनदाताओं में से एक की निर्मुक्ति का प्रभाव (Effect of release of one joint promisor)

45 - संयुक्त अधिकारों का न्यागमन (Devolution of joint rights)

46 - वचन पालन के लिए समय (Time for performance of promise)

47 - वचन पालन के लिए समय और स्थान जहाँ कि पालन के लिए समय विनिर्दिष्ट हो और आवेदन न किया जाना हो (Time and place for performance of promise, where time is specified and no application to be made)

48 - अमुक दिन पर पालन के लिए आवेदन उचित समय और स्थान पर किया जाएगा ( Application for performance on certain day to be at proper time and place)

49 - वचन के पालन के लिए स्थान, जहाँ कि पालन के लिए, आवेदन न किया जाना हो और कोई स्थान नियत न हो

50 - वचनग्रहीता द्वारा विहित या मंजूर किए गए प्रकार से या समय पर पालन (Performance in manner or at time prescribed or sanctioned by promisee)

51 - वचनदाता पालन करने के लिए आबद्ध नहीं है जब तक कि व्यतिकारी वचनग्रहीता पालन के लिए तैयार और रजामन्द न हो( Promisor not bound to perform, unless reciprocal promisee ready and willing to perform)

52 - व्यतिकारी वचनों के पालन का क्रम (Order of performance of reciprocal promises)

53 - जिस घटना के घटित होने पर संविदा प्रभावशील होनी है उसका निवारण करने वाले पक्षकार का दायित्व (Liability of party preventing event on which the contract is to take effect)

54 - व्यतिकारी वचनों से गठित संविदा में (Effect of default as to that promise which should be performed)

55 - उस संविदा में जिसमें समय मर्मभूत है नियत समय पर पालन न करने का प्रभाव (Effect of failure to perform at a fixed time)

56 - असम्भव कार्य करने का करार (Agreement to do impossible act)

57 - वैध बातों, और ऐसी अन्य बातों को भी, जो अवैध हों, करने का व्यतिकारी वचन (Reciprocal promise to do things legal, and also other things illegal)

58 - अनुकल्पी वचन जिसकी एक शाखा अवैध हो ( Alternative promise, one branch being illegal)

59 - जहाँ कि वह ऋण उपदर्शित हो, जिसका उन्मोचन किया जाना है, वहाँ संदायों का उपयोजन (Application of payment, where debt to be discharged is indicated)

60 - जहाँ कि वह ऋण उपदर्शित न हो जिसका उन्मोचन किया जाना है, वहाँ संदाय का उपयोजन (Application of payment where debt to be discharged is not indicated)

61 - जहाँ कि दोनों पक्षकारों में से कोई भी विनियोग नहीं करता है, वहाँ संदाय का उपयोजन (Application of payment where neither party appropriates)

62 - संविदा के नवीयन, विखण्डन और परिवर्तन का प्रभाव (Effect of novation, rescission, and alteration of contract)

63 - वचनग्रहीता वचन के पालन से अभिमुक्ति या उसका परिहार दे या कर सकेगा (Promisee may dispense with or remit performance of promise)

64 - शून्यकरणीय संविदा के विखण्डन के परिणाम (Consequences of rescission of a voidable contract)

65 - उस व्यक्ति की बाध्यता, जिसने शून्य करार के अधीन या उस संविदा के अधीन जो शुन्य हो गई हो, फायदा प्राप्त किया हो (Obligation of person who has received advantage under void agreement, or contract that becomes void)

66 - शून्यकरणीय संविदा के विखंडन की संसूचना या प्रतिसंहरण की रीति ((Mode of communicating or revoking rescission of voidable contract)

67 - पालन के लिए युक्तियुक्त सौकर्य वचनदाता को देने में वचनग्रहीता की उपेक्षा का प्रभाव (Effect of neglect of promisee to afford promisor reasonable facilities for performance)

68 - संविदा करने में असमर्थ व्यक्ति को या उसके लेखे प्रदाय की गई आवश्यक वस्तुओं के लिए दावा (Claim for necessaries supplied to person incapable of contracting, or on his account)

69 - उस व्यक्ति की प्रतिपूर्ति, जो किसी अन्य द्वारा शोध्य ऐसा धन देता है, जिसके संदाय में वह व्यक्ति हितबद्ध है (Reimbursement of person paying money due by another, in payment of which he is interested)

70 - अननुग्रहिक कार्य का फायदा उठाने वाले व्यक्ति की बाध्यता (Obligation of person enjoying benefit of non-gratuitous act)

71 - माल पड़ा पाने वाले का उत्तरदायित्व (Responsibility of finder of goods )

72 - उस व्यक्ति का दायित्व जिसको भूल से या प्रपीड़न के अधीन धन का संदाय या चीज का परिदान किया जाता है (Liability of person to whom money is paid, or thing delivered, by mistake or under coercion)

73 - संविदा-भंग द्वारा कारित हानि या नुकसान के लिए प्रतिकर (Compensation for loss or damage caused by breach of contract)

74 - जहाँ कि शास्ति का अनुबन्ध है वहाँ संविदा भंग के लिए प्रतिकर (Compensation for breach of contract where penalty stipulated for)

75 - संविदा को अधिकारपूर्वक विखंडित करने वाला पक्षकार प्रतिकर का हकदार है (Party rightfully rescinding contract, entitled to compensation)

76 - माल विक्रय(SALE OF GOODS)

124 - “क्षतिपूर्ति की संविदा' की परिभाषा (Contract of indemnity defined)

125 - क्षतिपूर्ति के अधिकार जबकि उस पर वाद लाया जाए (Rights of indemnity-holder when sued)

126 - “प्रत्याभूति की संविदा”, “प्रतिभू”, “मूलऋणी” और “लेनदार' ('Contract of guarantee', 'surety', 'principal debtor' and 'creditor')

127 - प्रत्याभूति के लिए प्रतिफल (Consideration for guarantee)

128 - प्रतिभू का दायित्व (Surety's liability)

129 - चलत प्रत्याभूति (Continuing guarantee)

130 - चलत प्रत्याभूति का प्रतिसंहरण (Revocation of continuing guarantee)

131 - चलत प्रत्याभूति का प्रतिभू की मृत्यु द्वारा प्रतिसंहरण (Revocation of continuing guarantee by surety's death)

132 - प्रथमतः दायी दो व्यक्तियों के दायित्व पर उनके बीच के इस ठहराव का प्रभाव नहीं पड़ता कि उनमें से एक के व्यतिक्रम पर दूसरा प्रतिभू होगा (Liability of two persons, primarily liable, not affected by arrangement between them that one shall be surety on other's default)

133 - संविदा के निबन्धनों में फेरफार से प्रतिभू का उन्मोचन (Discharge of surety by variance in terms of contract)

134 - मूल ऋणी की निर्मुक्ति या उन्मोचन से प्रतिभू का उन्मोचन (Discharge of surety by release or discharge of principal debtor)

135 - प्रतिभू का उन्मोचन जबकि लेनदार मूल ऋणी के साथ प्रशमन करता है, उसे समय देता है या उस पर वाद न लाने का करार करता है (Discharge of surety when creditor compounds with, gives time to, or agrees not to sue, principal debtor)

136 - जब कि मूल ऋणी को समय देने का करार पर-व्यक्ति से किया जाता है, जब प्रतिभू उन्मोचित नहीं होता (Surety not discharged when agreement made with third person to give time to principal debtor)

137 - लेनदार का वाद लाने से प्रविरत रहना प्रतिभू को उन्मोचित नहीं करता (Creditor's forbearance to sue does not discharge surety)

138 - एक सह-प्रतिभू की निर्मुक्ति अन्यों को उन्मोचित नहीं करती (Release of one co-surety does not discharge others)

139 - लेनदार के ऐसे कार्य या लोप से, जिसे प्रतिभू के पारिणामिक उपचार का ह्रास है, प्रति का उन्मोचन (Discharge of surety by creditor's act or omission impairing surety's eventual remedy)

140 - संदाय या पालन होने पर प्रतिभू के अधिकार (Rights of surety on payment or performance)

141 - लेनदार की प्रतिभूतियों को फायदा उठाने का प्रतिभू का अधिकार (Surety's right to benefit of creditor's securities)

142 - दुर्व्यपदेशन द्वारा अभिप्राप्त प्रत्याभूति अविधिमान्य होगी (Guarantee obtained by misrepresentation, invalid)

143 - छिपाव द्वारा अभिप्राप्त प्रत्याभूति की अविधिमान्यता (Guarantee obtained by concealment, invalid)

144 - इस संविदा पर प्रत्याभूति देना कि लेनदार उस पर तब तक कार्य नहीं करेगा जब तक सहप्रतिभू सम्मिलित नहीं हो जाता (Guarantee on contract that creditor shall not act on it until co-surety joins)

145 - प्रतिभू की क्षतिपूर्ति करने का विवक्षित वचन (Implied promise to indemnify surety)

146 - सह-प्रतिभू समानतः अभिदाय करने के दायी होते हैं (Co-sureties liable to contribute equally)

147 - विभिन्न राशियों के लिए आबद्ध सह-प्रतिभुओं का दायित्व (Liability of co-sureties bound in different sums)

148 - उपनिधान”, “उपनिधाता” और “उपनिहिती (Bailment, bailor and bailee defined)

149 - उपनिहिती को परिदान किस प्रकार किया जाए (Delivery to bailee how made)

150 - उपनिहित माल की त्रुटियों को प्रकट करने का उपनिधाता का कर्तव्य (Bailor's duty to disclose faults in goods bailed)

151 - उपनिहिती द्वारा बरती जाने वाली सतर्कता (Care to be taken by bailee)

152 - उपनिहित चीज की हानि आदि के लिए उपनिहिती कब दायी नहीं है (Bailee when not liable for loss, etc., of thing bailed)

153 - उपनिहिती के ऐसे कार्य द्वारा, जो शर्तों से असंगत हो, उपनिधान का पर्यवसान (Termination of bailment by bailee's act inconsistent with conditions)

154 - उपनिहित माल का अप्राधिकृत उपयोग करने वाला उपनिहिती का दायित्व (Liability of bailee making unauthorised use of goods bailed)

155 - उपनिहिती के माल के साथ उपनिधाता की सम्मति से उसके माल के मिश्रण का प्रभाव (Effect of mixture, with bailor's consent, of his goods with bailee's)

156 - जबकि माल पृथक् किए जा सकते हों तब उपनिधाता की सम्मति के बिना किए गए मिश्रण का प्रभाव (Effect of mixture, without bailor's consent, when the goods can be separated)

157 - जबकि माल पृथक् न किए जा सकते हों तब उपनिहिती की सम्मति के बिना किए गए मिश्रण का प्रभाव (Effect of mixture, without bailor's consent, when the goods cannot be separated)

158 - आवश्यक व्ययों का उपनिधाता द्वारा प्रतिसंदाय (Repayment, by bailor, of necessary expenses)

159 - आनुग्रहिक रूप से उधार दिये गए माल का प्रत्यावर्तन (Restoration of goods lent gratuitously)

160 - समय के अवसान पर या प्रयोजन पूरा होने पर उपनिहित माल की वापसी (Return of goods bailed, on expiration of time or accomplishment of purpose)

161 - जबकि माल सम्यक् रूप से वापस न किया जाए तब उपनिहिती का उत्तरदायित्व (Bailee's responsibility when goods are not duly returned)

162 - आनुग्रहिक उपनिधान को मृत्यु से पर्यवसान (Termination of gratuitous bailment by death)

163 - उपनिधाता उपनिहित माल में हुई वृद्धि या उससे हुए लाभ का हकदार (Bailor entitled to increase or profit from goods bailed)

164 - उपनिहिती के प्रति उपनिधाता का उत्तरदायित्व (Bailor's responsibility to bailee)

165 - कई संयुक्त स्वामियों द्वारा उपनिधान (Bailment by several joint owners)

166 - बिना हक वाले उपनिधाता को वापस परिदान करने पर उपनिहिती उत्तरदायी न होगा (Bailee not responsible on re-delivery to bailor without title)

167 - उपनिहित माल पर दावा करने वाले पर-व्यक्ति का अधिकार (Right of third person claiming goods bailed)

168 - माल पड़ा पाने वाले का अधिकार, वह प्रस्थापित विनिर्दिष्ट पुरस्कार के लिए वाद ला सकेगा (Right of finder of goods, may sue for specific reward offered)

169 - सामान्यतया विक्रय होने वाली चीज को पड़ी पाने वाला उसे कब बेच सकेगा (When finder of thing commonly on sale may sell it)

170 - उपनिहिती का विशिष्ट धारणाधिकार (Bailee's particular lien)

171 - बैंककारों, फैक्टरों, घाटवालों, अटार्नियों और बीमा-दलालों का साधारण धारणाधिकार(General lien of bankers, factors, wharfingers, attorneys and policy-brokers)

172 - गिरवी', ‘पणयमकार' और 'पणयमदार' की परिभाषा (“Pledge', 'pawnor' and 'pawnee defined)

173 - पणयमदार का प्रतिधारण का अधिकार (Pawnee's right of retainer)

174 - जिस ऋण या वचन के लिए माल गिरवी रखा गया है, पणयमदार उससे भिन्न ऋण वचन के लिए उसका प्रतिधारण नहीं करेगा, पश्चात्वर्ती उधारों के बारे में उपधारणा (Pawnee not to retain for debt or promise other than that for which goods pledged. Presumption in case of subsequent advances)

175 - उपगत गैर-मामूली व्ययों के बारे में पणयमदार का अधिकार (Pawnee's right as to extraordinary expenses incurred)

176 - पणयमदार का अधिकार जहाँ कि पणयमदार व्यतिक्रम करता है (Pawnce's right where pawnor makes default)

177 - व्यतिक्रम करने वाले पणयमकार का मोचनाधिकार (Defaulting pawnor's right to redeem)

178A - शुन्यकरणीय संविदा के अधीन कब्जा रखने वाले व्यक्ति द्वारा गिरवी(Pledge by person in possession under voidable contract)

178 - वाणिज्यिक अभिकर्ता द्वारा गिरवी (Pledge by mercantile agent)

179 - गिरवी जहाँ कि पणयमकार केवल परिसीमित हित रखता है (Pledge where pawnor has only a limited interest)

180 - उपनिधाता या उपनिहिती द्वारा दोषकर्ता के विरुद्ध वाद (Suit by bailor or bailee against wrong-doer)

181 - ऐसे वादों में अभिप्राप्त अनुतोष या प्रतिकर का प्रभाजन (Apportionment of relief or compensation obtained by such suits)

182 - “अभिकर्ता” और “मालिक' की परिभाषा ('Agent' and 'principal' defined)

183 - अभिकर्ता कौन नियोजित कर सकेगा (Who may employ agent)

184 - अभिकर्ता कौन हो सकेगा (Who may be an agent)

185 - प्रतिफल आवश्यक नहीं है (Consideration not necessary)

186 - अभिकर्ता का प्राधिकार अभिव्यक्त या विवक्षित हो सकेगा (Agent's authority may be expressed or implied)

187 - अभिव्यक्त और विवक्षित प्राधिकार की परिभाषाएँ (Definitions of express and implied authority)

188 - अभिकर्ता के प्राधिकार का विस्तार (Extent of agent's authority)

189 - आपात में अभिकर्ता का प्राधिकार (Agent's authority in an emergency)

190 - अभिकर्ता कब प्रत्यायोजन नहीं कर सकता (When agent cannot delegate)

191 - “उपाभिकर्ता' की परिभाषा (Sub-agent defined)

192 - उचित तौर पर नियुक्त उपाभिकर्ता द्वारा मालिक का प्रतिनिधित्व (Representation of principal by sub-agent properly appointed)

193 - प्राधिकार के बिना नियुक्त उपाभिकर्ता के लिए अभिकर्ता का उत्तरदायित्व (Agent's responsibility for sub-agent appointed without authority)

194 - अभिकर्ता द्वारा अभिकरण के कारबार में कार्य करने के लिए सम्यक् रूप से नियुक्त व्यक्ति और मालिक के बीच का सम्बन्ध (Relation between principal and person duly appointed by agent to act in business of agency)

195 - ऐसे व्यक्ति को नामित करने में अभिकर्ता का कर्तव्य (Agent's duty in naming such person)

196 - किसी व्यक्ति का प्राधिकार के बिना किए गए कार्यों के बारे में अधिकार : अनुसमर्थन का प्रभाव (Right of person as to acts done for him without his authority. Effect of ratification)

197 - अनुसमर्थन अभिव्यक्त या विवक्षित हो सकेगा (Ratification may be expressed or implied)

198 - विधिमान्य अनुसमर्थन के लिए ज्ञान अपेक्षित है (Knowledge requisite for valid ratification)

199 - जो अप्राधिकृत कार्य किसी संव्यवहार का भाग हो उसके अनुसमर्थन का प्रभाव (Effect of ratifying unauthorized act forming part of a transaction)

200 - अप्राधिकृत कार्य का अनुसमर्थन पर-व्यक्ति को क्षति नहीं पहुँचा सकता (Ratification of unauthorized act cannot injure third person)

201 - अभिकरण का पर्यवसान (Termination of agency)

202 - जहाँ कि अभिकर्ता का विषय-वस्तु में कोई हित हो वहाँ अभिकरण का पर्यवसान (Termination of agency, where agent has an interest in subject matter)

203 - मालिक अभिकर्ता के प्राधिकार का प्रतिसंहरण कब कर सकेगा (When principal may revoke agent's authority)

204 - प्रतिसंहरण जहाँ कि प्राधिकार का भागतः प्रयोग कर लिया गया है (Revocation where authority has been partly exercised)

205 - मालिक द्वारा प्रतिसंहरण या अभिकर्ता द्वारा त्यजन के लिए प्रतिकर (Compensation for revocation by principal, or renunciation by agent)

206 - प्रतिसंहरण या त्यजन की सूचना (Notice of revocation or renunciation)

207 - प्रतिसंहरण और त्यजन अभिब्यक्त या विवक्षित हो सकेगा (Revocation and renunciation may be expressed or implied)

208 - अभिकर्ता के प्राधिकार का पर्यवसान कब अभिकर्ता के सम्बन्ध में और कब पर-व्यक्तियों के सम्बन्ध में प्रभावी होता है (When termination of agent's authority takes effect as to agent, and as to third persons)

209 - मालिक की मृत्यु या उन्मत्तता के द्वारा अभिकरण के पर्यवसान पर अभिकर्ता का कर्तव्य (Agent's duty on termination of agency by principal's death or insanity)

210 - उपाभिकर्ता के प्राधिकार का पर्यवसान (Termination of sub-agent's authority)

211 - मालिक के कारबार के संचालन में अभिकर्ता का कर्तव्य (Agent's duty in conducting principal's business)

212 - अभिकर्ता से अपेक्षित कौशल और तत्परता (Skill and diligence required from agent)

213 - अभिकर्ता के लेखा (Agent's accounts)

214 - मालिक से सम्पर्क रखने का अभिकर्ता का दायित्व (Agent's duty to communicate with principal)

215 - मालिक का अधिकार जबकि अभिकर्ता अभिकरण के कारबार में मालिक की सम्मत्ति के बिना अपने ही लेखे व्यवहार करता है - Right of principal when agent deals, on his own account, in business of agency without principal's consent

216 - अभिकरण के कारबार में अभिकर्ता को अपने लेखा व्यवहार को करने से प्राप्त फायदे पर मालिक का अधिकार (Principal's right to benefit gained by agent dealing on his own account in business of agency)

217 - अभिकर्ता का मालिक के लेखे प्राप्त राशियों में से प्रतिधारण का अधिकार (Agent's right of retainer out of sums received on principal's account)

218 - मालिक के निमित्त प्राप्त राशियों के संदाय का अभिकर्ता का कर्तव्य (Agent's duty to pay sums received for principal)

219 - अभिकर्ता का पारिश्रमिक कब शोध्य हो जाता है (When agent's remuneration becomes due)

220 - अवचारित कारबार के लिए अभिकर्ता पारिश्रमिक का हकदार नहीं है (Agent not entitled to remuneration for business misconducted)

221 - मालिक की सम्पत्ति पर अभिकर्ता का धारणाधिकार (Agent's lien on principal's property)

222 - विधिपूर्ण कार्यों के परिणामों के लिए अभिकर्ता की क्षतिपूर्ति की जाएगी (Agent to be indemnified against consequences of lawful acts)

223 - सद्भाव से किये गए कार्यों के परिणामों के लिए अभिकर्ता की क्षतिपूर्ति की जाएगी (Agent to be indemnified against consequences of acts done in good faith)

224 - आपराधिक कार्य करने के लिए अभिकर्ता के नियोजक का अदायित्व (Non-liability of employer of agent to do a criminal act)

225 - मालिक की उपेक्षा से कारित क्षति के लिए अभिकर्ता को प्रतिकर (Compensation to agent for injury caused by principal's neglect)

226 - अभिकर्ता की संविदाओं का प्रवर्तन और उनके परिणाम (Enforcement and consequences of agent's contracts)

227 - मालिक कहाँ तक आबद्ध है जबकि अभिकर्ता प्राधिकार से आगे बढ़ जाता है (Principal how far bound, when agent exceeds authority)

228 - मालिक आबद्ध न होगा जहाँ कि अभिकर्ता के प्राधिकार से परे किया गया कार्य पृथक नहीं किया जा सकता(Principal not bound when excess of agent's authority is not separable)

229 - अभिकर्ता को दी गई सूचना के परिणाम (Consequences of notice given to agent)

230 - मालिक की ओर से की गई संविदाओं को अभिकर्ता वैयक्तिक रूप से न तो प्रवर्तित करा सकता है और न उनसे आबद्ध ही होता है(Agent cannot personally enforce, nor be bound by, contracts on behalf of principal)

231 - अप्रकटित अभिकर्ता द्वारा की गई संविदा के पक्षकारों के अधिकार (Right of parties to a contract made by agent not disclosed)

232 - अभिकर्ता को मालिक समझकर उसके साथ की गई संविदा का पालन (Performance of contract with agent supposed to be principal)

233 - वैयक्तिक रूप से दायी अभिकर्ता से व्यवहार करने वाले व्यक्ति का अधिकार (Right of person dealing with agent personally liable)

234 - अभिकर्ता या मालिक को इस विश्वास पर कार्य करने के लिए उत्प्रेरित करने का परिणाम कि केवल मालिक या केवल अभिकर्ता दायी ठहराया जाएगा (Consequence of inducing agent or principal to act on belief that principal or agent will be held exclusively liable)

235 - अपदेशी अभिकर्ता का दायित्व (Liability of pretended agent)

236 - मिथ्या रूप से अभिकर्ता के तौर पर संविदा करने वाला व्यक्ति पालन कराने का हकदार नहीं है (Person falsely contracting as agent, not entitled to performance)

237 - यह विश्वास उत्प्रेरित करने वाले मालिक का दायित्व कि अभिकर्ता के अप्राधिकृत कार्य प्राधिकृत थे (Liability of principal inducing belief that agent's unauthorized acts were authorized)

238 - अभिकर्ता द्वारा दुर्व्यपदेशन या कपट का करार पर प्रभाव (Effect, on agreement, of misrepresentation or fraud by agent)

239 - भागीदारी के विषय में (OF PARTNERSHIP)


To download Indian Contract Act in Hindi in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.

Comments

Popular posts from this blog

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

संविधान के अनुच्छेद 19 में मूल अधिकार | Fundamental Right of Freedom in Article 19 of Constitution