Section 72 Contract Act 1872

 

Section 72 Contract Act 1872 in Hindi and English 


Section 72 Contract Act 1872 :Liability of person to whom money is paid, or thing delivered, by mistake or under coercion - A person to whom money has been paid, or anything delivered, by mistake or under coercion, must repay or return it.

Illustrations

(a) A and B jointly owe 100 rupees to C, A alone pays the amount to C, and B, not knowing this fact, pays 100 rupees over again to C. C is bound to repay the amount to B.

(b) A railway company refuses to deliver up certain goods to the consignee except upon the payment of an illegal charge for carriage. The consignee pays the sum charged in order to obtain the goods. He is entitled to recover so much of the charge as was illegal and excessive.



Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section 72 of Contract Act 1872 :

Mafatlal Industries Ltd., vs Union Of India Etc. Etc on 19 December, 1996

Mafatlal Industries Ltd., vs Union Of India Etc. Etc on 19 December, 1996

Sales Tax Officer, Banaras & vs Kanhaiya Lal Mukundlal Saraf on 23 September, 1958

Mafatalal Industries Ltd. Etc. vs Union Of India Etc. Etc on 19 December, 1996

Jammu & Kashmir Bank Ltd vs Attar-Ul-Nissa & Others on 7 October, 1966

Tilokchand Motichand & Ors vs H.B. Munshi & Anr on 22 November, 1968

Mahabir Kishore & Ors vs State Of Madhya Pradesh on 31 July, 1989

Commissioner Of Sales Tax, U.P vs Auriaya Chamber Of Commerce, on 10 April, 1986

Shiv Nath Rai Ram Dhari And Ors. vs The Union Of India (Uoi) on 10 February, 1965

State Of Kerala vs General Manager, Southern on 30 August, 1976



भारतीय संविदा अधिनियम, 1872 की धारा 72 का विवरण :  -  उस व्यक्ति का दायित्व जिसको भूल से या प्रपीड़न के अधीन धन का संदाय या चीज का परिदान किया जाता है -- जिस व्यक्ति को भूल से या प्रपीड़न के अधीन धन संदत्त किया गया है या कोई चीज परिदत्त की गई है, उसे उसका प्रतिसंदाय या वापसी करनी होगी।

दृष्टान्त

(क) 'क' और 'ख' संयुक्तत: 'ग' के 100 रुपये के देनदार हैं। अकेला 'क' ही 'ग' को वह रकम संदत्त कर देता है। और इस तथ्य को न जानते हुए, 'ग' को 'ख' 100 रुपये फिर संदत्त कर देता है। इस रकम का 'ख' को प्रतिसंदाय करने के लिए 'ग' आबद्ध है।

(ख) एक रेल-कम्पनी परेषिती को अमुक माल, जब तक कि वह उसके वहन के लिए अवैध प्रभार न दे, परिदत्त करने से इन्कार करती है। परेषिती माल को अभिप्राप्त करने के लिए प्रभार की वह राशि संदत्त कर देता है। वह उस प्रभार में से उतना वसूल करने का हकदार है जितना अविधित: अधिक था।


To download this dhara / Section of Contract Act in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.

Comments

Popular posts from this blog

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

संविधान के अनुच्छेद 19 में मूल अधिकार | Fundamental Right of Freedom in Article 19 of Constitution