Section 36 Contract Act 1872

 


Section 36 Contract Act 1872 in Hindi and English 


Section  36 Contract Act 1872 :Agreements contingent on impossible event void - Contingent agreements to do or not to do anything, if an impossible event happens, are void, whether the impossibility of the event is known or not to the parties to the agreement at the time when it is made.


Illustrations

(a) A agrees to pay B 1,000 rupees if two straight lines should enclose a space. The agreement is void.

(b) A agrees to pay B 1,000 rupees if B will marry A's daughter C. C was dead at the time of the agreement. The agreement is void.


Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section  36 of Contract Act 1872 :

Moti Ram Deka Etc vs General Manager, N.E.F. on 5 December, 1963

Percept D'Markr (India) Pvt. Ltd vs Zaheer Khan & Anr on 22 March, 2006


भारतीय संविदा अधिनियम, 1872 की धारा  36 का विवरण :  -  असम्भव घटनाओं पर समाश्रित करार शुन्य हैं -- समाश्रित करार, जो किसी असम्भव घटना के घटित होने पर ही कोई बात करने या न करने के लिए हों, शून्य हैं, चाहे घटना की असम्भवता करार के पक्षकारों को उस समय ज्ञात थी या नहीं जब करार किया गया था।


दृष्टान्त

(क) क' करार करता है कि यदि दो सरल रेखाएँ किसी स्थान को घेर लें तो वह ‘ख’ को 1,000 रुपये देगा। करार शून्य है।

(ख) 'क' करार करता है कि यदि 'क' की पुत्री 'ग' से 'ख' विवाह कर ले तो वह 'ख' को 1,000 रुपये देगा। करार के समय 'ग' मर चुकी थी। करार शून्य है।


To download this dhara / Section of Contract Act in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.

Comments

Popular posts from this blog

100 Questions on Indian Constitution for UPSC 2020 Pre Exam

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India