Section 29 Contract Act 1872

 


Section 29 Contract Act 1872 in Hindi and English 



Section 29 Contract Act 1872 :Agreements void for uncertainty --Agreements, the meaning of which is not certain, or capable of being made certain, are void


Illustrations

(a) A agrees to sell B "a hundred tons of oil". There is nothing whatever to show what kind of oil was intended. The agreement is void for uncertainty.

(b) A agrees to sell B one hundred tons of oil of a specified description, known as an article of commerce. There is no uncertainty here to make the agreement void.

(c) A, who is a dealer in coconut oil only, agrees to sell to B "one hundred tons of oil”. The nature of A's trade affords an indication of the meaning of the words, and A has entered into a contract for the sale of one hundred tons of coconut-oil.

(d) A agrees to sell B "all the grain in my granary at Ramnagar". There is no uncertainty here to make the agreement void.

(e) A agrees to sell to B one thousand maunds of rice at a price to be fixed by C". As the price is capable of being made certain, there is no uncertainty here to make the agreement void.

(f) A agrees to sell to B "my white horse for rupees five hundred or rupees one thousand". There is nothing to show which of the two prices was to be given. The agreement is void.



Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section 29 of Contract Act 1872 :

Smt. Sohbatdei vs Deviplal And Ors. on 15 February, 1971

Ramesh Himmatlal Shah vs Harsukh Jadhavji Joshi on 25 April, 1975

Asha John Divianathan vs Vikram Malhotra . on 26 February, 2021

Panchanan Dhara & Ors vs Monmatha Nath Maity (Dead) Th. on 12 May, 2006

Keshavlal Lallubhai Patel And vs Lalbhai Trikumlal Mills Ltd on 21 March, 1958

M/S. Dhanrajamal Gobindram vs M/S. Shamji Kalidas And Co on 27 February, 1964

Industrial Finance Corporation vs Thletdc.An&Naonrosr.E Spinning on 12 April, 2002

Delhi Development Authority,vs Joint Action Committee,Allottee on 13 December, 2007

Industrial Finance Corporation vs Thletdc.An&Naonrosr.E; on 12 April, 2002

Dhanrajamal Gobindram vs Shamji Kalidas And Co. on 27 February, 1961



भारतीय संविदा अधिनियम, 1872 की धारा 29 का विवरण :  -  करार अनिश्चितता के कारण शून्य है -- वे करार जिनका अर्थ निश्चित नहीं है या निश्चित किया जाना शक्य नहीं है, शून्य है

 

दृष्टान्त

(क) 'ख' को 'क' ‘‘एक सौ टन तेल'' बेचने का करार करता है। उसमें यह दर्शित करने के लिए कुछ नहीं है कि किस तरह का तेल आशयित था। करार अनिश्चितता के कारण शून्य है।

(ख) ‘ख’ को ‘क’, विनिर्दिष्ट वर्णन का एक सौ टन ऐसा तेल बेचने का करार करता है जो एक वाणिज्यिक वस्तु के रूप में ज्ञात है। यहाँ कोई अनिश्चितता नहीं है जिससे करार शून्य हो जाए।

(ग) ‘क’, जो केवल नारियल के तेल का व्यवसायी है, ‘ख’ को ‘एक सौ टन तेल" बेचने का करार करता है। 'क' के व्यापार की प्रकृति इन शब्दों का अर्थ उपदर्शित करती है और 'क' ने एक सौ टन नारियल के तेल के विक्रय के लिए संविदा की है।

(घ) 'क' “रामनगर में मेरे धान्य-भण्डार में का सारा धान्य' ‘ख’ को बेचने का करार करता है। यहाँ कोई अनिश्चितता नहीं है जिससे करार शून्य हो जाए।

(ङ) ‘ख’ को ‘‘ग द्वारा नियत की जाने वाली कीमत पर एक हजार मन चावल'' बेचने का करार ‘क’ करता है। कीमत निश्चित की जा सकती है, इसलिए यहाँ कोई अनिश्चितता नहीं है जिससे करार शून्य हो जाए।

(च) 'ख' को 'क' ‘‘मेरा सफेद घोड़ा पाँच सौ रुपये या एक हजार रुपये के लिए बेचने का करार करता है। यह दर्शित करने के लिए कुछ नहीं है कि इन दो कीमतों में से कौन-सी दी जानी है। करार शून्य है।


To download this dhara / Section of Contract Act in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.

Comments

Popular posts from this blog

100 Questions on Indian Constitution for UPSC 2020 Pre Exam

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India