Section 233 Contract Act 1872

 

Section 233 Contract Act 1872 in Hindi and English 



Section 233 Contract Act 1872 :Right of person dealing with agent personally liable - In cases where the agent is personally liable, a person dealing with him may hold either him or his principal, or both of them liable

Illustrations

A enters into a contract with B to sell him 100 bales of cotton, and afterwards discovers that B was acting as agent for C. A may sue either B or C, or both, for the price of the cotton.



Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section 233 of Contract Act 1872 :

Lalit Kumar Jain vs Union Of India on 21 May, 2021


भारतीय संविदा अधिनियम, 1872 की धारा 233 का विवरण :  - वैयक्तिक रूप से दायी अभिकर्ता से व्यवहार करने वाले व्यक्ति का अधिकार -- उन मामलों में जिनमें कि अभिकर्ता वैयक्तिक रूप से दायी हो, उससे व्यवहार करने वाले व्यक्ति या तो उसको या उसके मालिक को या उन दोनों को दायी ठहरा सकेगा।

दृष्टान्त

रूई की 100 गांठे 'ख' को बेचने की संविदा उससे 'क' करता है और तत्पश्चात् उसे पता चलता है कि 'ग' की ओर से 'ख' अभिकर्ता के रूप में कार्य कर रहा था। क उस रूई की कीमत के लिए या तो 'ख' पर या 'ग' पर या दोनों पर वाद ला सकेगा 


To download this dhara / Section of Contract Act in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.

Comments

Popular posts from this blog

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

संविधान के अनुच्छेद 19 में मूल अधिकार | Fundamental Right of Freedom in Article 19 of Constitution