Section 224 Contract Act 1872

 Section 224 Contract Act 1872 in Hindi and English 



Section 224 Contract Act 1872 :Non-liability of employer of agent to do a criminal act — Where one person employs another to do an act which is criminal, the employer is not liable to the agent, either upon an express or an implied promise to indemnify him against the consequences of that act.

Illustrations

(a) A employs B to beat C, and agrees to indemnify him against all consequences of the act. B thereupon beats C, and has to pay damages to C for so doing. A is not liable to indemnify B for those damages.

(b) B, the proprietor of a newspaper, publishes, at A's request, a libel upon C in the paper, and A agrees to indemnify B against the consequences of the publication, and all costs and damages of any action in respect thereof. B is sued by C and has to pay damages, and also incurs expenses. A is not liable to B upon the indemnity.​


 

Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section 224 of Contract Act 1872 :

Firm Of Pratapchand Nopaji vs Firm Of Kotrike Venkatta Setty & on 12 December, 1974

Supreme Court of India

Sri T Shivakumar vs The Commissioner Of Commercial on 15 February, 2010

Karnataka High Court 

Universal Plast Limited vs Santosh Kumar Gupta on 15 March, 1985

Delhi High Court 

Shri Rajesh Aggarwal vs Shri Balbir Singh And Another on 24 August, 1994

Delhi High Court 

Manchersha Ardesar vs Govind Ganesh Joshi on 1 April, 1930

Bombay High Court 

Hasvantbhai Chhanubhai Dalal vs Adesinh Mansinh Raval on 12 April, 2019

Gujarat High Court 

Babu Lal vs B O R Ajmer And Ors on 26 February, 2013

Rajasthan High Court 

Rajesh Aggarwal vs Balbir Singh And Anr. on 24 August, 1994

Delhi High Court t

Ms. Indu Sabharwal vs Bhai Sarabjit Sabharwal on 5 August, 2016

Delhi District Court 

Mohani Bai And Ors vs B O R Ajmer And Ors on 7 May, 2012

Rajasthan High Court 


भारतीय संविदा अधिनियम, 1872 की धारा 224 का विवरण :  -  आपराधिक कार्य करने के लिए अभिकर्ता के नियोजक का अदायित्व -- जहाँ कि एक व्यक्ति किसी दूसरे को ऐसा कार्य करने के लिए नियोजित करता है, जो आपराधिक हो, वहाँ नियोजक उस कार्य के परिणामों के लिए अभिकर्ता की क्षतिपूर्ति न तो अभिव्यक्त और न विवक्षित वचन के आधार पर करने का दायी है।

दृष्टान्त

(क) 'ग' को पीटने के लिए 'ख' को 'क' नियोजित करता है और उस कार्य के सब परिणामों के लिए उसकी क्षतिपूर्ति करने का करार करता है। 'ख' तदुपरि 'ग' को पीटता है और वैसा करने के लिए उसे 'ग' को नुकसानी देनी पड़ती है। 'क' उस नुकसानी के लिए 'ख' की क्षतिपूर्ति करने का दायी नहीं है।

(ख) 'ख',.एक समाचार पत्र का स्वत्वधारी, 'क' की प्रार्थना पर उस पत्र में 'ग' के विरुद्ध एक अपमान-लेख प्रकाशित करता है और 'क' उस प्रकाशन के परिणामों और उसके सम्बन्ध में जो भी अनुयोजन हो उसके सब खर्चे और नुकसानी के लिए 'ख' की क्षतिपूर्ति करने का करार करता है। 'ख' पर 'ग' द्वारा वाद लाया जाता है और उसे नुकसानी देनी पड़ती है और व्यय भी उठाना पड़ता है। उक्त क्षतिपूर्ति वचन के आधार पर 'ख' के प्रति 'क' दायी नहीं है


To download this dhara / Section of Contract Act in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.

Comments

Popular posts from this blog

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

संविधान के अनुच्छेद 19 में मूल अधिकार | Fundamental Right of Freedom in Article 19 of Constitution