Section 170 Contract Act 1872

 

Section 170 Contract Act 1872 in Hindi and English 


Section 170 Contract Act 1872 :Bailee's particular lien - Where the bailee has, in accordance with the purpose of the bailment, rendered any service involving the exercise of labour or skill in respect of the goods bailed, he has, in the absence of a contract to the contrary, a right to retain such goods until he receives due remuneration for the services he has rendered in respect of them.

Illustrations

(a) A delivers a rough diamond to B, a jeweller, to be cut and polished, which is accordingly done. B is entitied to retain the stone till he is paid for the services he has rendered.

(b) A gives cloth to B, a tailor, to make into a coat. B promises A to deliver the coat as soon as it is finished, and to give a three months credit for the price. B is not entitled to retain the coat until he is paid.



Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section 170 of Contract Act 1872 :

State Of West Bengal vs Sailendra Nath Sen on 22 April, 1993

Shipping Corpn. Of India Ltd vs C.L. Jain Woolen Mills & Ors on 10 April, 2001

State Of West Bengal vs Sailendra Nath Sen on 24 April, 1993

Taj Mahal Hotel vs United India Insurance Co.Ltd. on 14 November, 2019



भारतीय संविदा अधिनियम, 1872 की धारा 170 का विवरण :  -  उपनिहिती का विशिष्ट धारणाधिकार -- जहाँ कि उपनिहिती ने, उपनिहित माल के बारे में उपनिधान के प्रयोजन के अनुसार कोई ऐसी सेवा की हो, जिसमें श्रम या कौशल का प्रयोग अन्तर्वलित हो, वहाँ तत्प्रतिकूल संविदा के अभाव में उसे ऐसे माल के तब तक प्रतिधारण का अधिकार है जब तक वह उन सेवाओं के लिए जो उसने उसके बारे में की हों, सम्यक् पारिश्रमिक नहीं पा लेता।।

दृष्टान्त

(क) 'क' एक जौहरी 'ख' को अनगढ़ हीरा काटने और पालिश किए जाने के लिए परिदत्त करता है। तद्नुसार वैसा कर दिया जाता है। ‘ख’ उस हीरे के तब तक प्रतिधारण का हकदार है जब तक उसे उन सेवाओं के लिए, जो उसने की है, संदाय न कर दिया जाए।

(ख) 'क', एक दर्जी 'ख' को कोट बनाने के लिए कपड़ा देता है। 'ख' यह वचन देता है कि कोट ज्यों ही पूरा हो जाएगा - वह उसे 'क' को परिदत्त कर देगा और पारिश्रमिक के लिए तीन मास का प्रत्यय देगा। कोट के लिए संदाय किए जाने तक ‘ख’ उसे प्रतिधृत रखने का हकदार नहीं है।


To download this dhara / Section of Contract Act in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.


Comments

Popular posts from this blog

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

संविधान के अनुच्छेद 19 में मूल अधिकार | Fundamental Right of Freedom in Article 19 of Constitution