Section 164 Indian Evidence Act 1872


Section 164 Indian Evidence Act 1872 in Hindi and English 



Section 164 Evidence Act 1872 :Using, as evidence, of document production of which was refused on notice -- When a party refuses to produce a document which he has had notice to produce, he cannot afterwards use the document as evidence without the consent of the other party or the order of the Court.

Illustration

A sues B on an agreement and gives B notice to produce it. At the trial, A calls for the document and B refuses to produce it. A gives secondary evidence of its contents. B seeks to produce the document itself to contradict the secondary evidence given by A, or in order to show that the agreement is not stamped. He cannot do so.




Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section 164 Indian Evidence Act 1872:

State Of Uttar Pradesh vs Singhara Singh And Others on 16 August, 1963

Ram Singh vs Sonia & Ors on 15 February, 2007

Md.Ajmal Md.Amir Kasab @Abu vs State Of Maharashtra on 29 August, 2012

Kartar Singh vs State Of Punjab on 11 March, 1994

Somasundaram @ Somu vs The State Rep. By The Deputy on 3 June, 2020

Dhanabal And Anr vs State Of Tamil Nadu on 13 December, 1979

State Of Punjab vs Harjagdev Singh on 22 April, 2009

M.A.Antony @ Antappan vs State Of Kerala on 22 April, 2009

Deep Chand vs The State Of Rajasthan on 30 March, 1961

Sarwan Singh Rattan Singh vs State Of Punjab [Alongwith on 10 April, 1957


भारतीय साक्ष्य अधिनियम, 1872 की धारा 164 का विवरण :  -  सूचना पाने पर जिस दस्तावेज के पेश करने से इंकार कर दिया गया है, उसको साक्ष्य के रूप में उपयोग में लाना -- जबकि कोई पक्षकार ऐसी किसी दस्तावेज को पेश करने से इंकार कर देता है, जिसे पेश करने की उसे सूचना मिल चुकी है; तब वह तत्पश्चात् उस दस्तावेज को दूसरे पक्षकार की सम्मति के या न्यायालय के आदेश के बिना साक्ष्य के रूप में उपयोग में नहीं ला सकेगा।

दृष्टांत

ख पर किसी करार के आधार पर क वाद लाता है और वह ख को उसे पेश करने की सूचना देता है। विचारण में क उस दस्तावेज की मांग करता है और ख उसे पेश करने से इंकार करता है। क उसकी अंतर्वस्तु का द्वितीयक साक्ष्य देता है। क द्वारा दिए हुए द्वितीयक साक्ष्य का खण्डन करने के लिए या यह दर्शित करने के लिए कि वह करार स्टांपित नहीं है, ख दस्तावेज को ही पेश करना चाहता है। वह ऐसा नहीं कर सकता।


Comments

Popular posts from this blog

100 Questions on Indian Constitution for UPSC 2020 Pre Exam

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India