Section 136 Contract Act 1872

 

Section 136 Contract Act 1872 in Hindi and English 


Section 136 Contract Act 1872 :Surety not discharged when agreement made with third person to give time to principal debtor - Where a contract to give time to the principal debtor is made by the creditor with a third person, and not with the principal debtor, the surety is not discharged.

Illustration

C, the holder of an overdue bill of exchange drawn by A as surety for B, and accepted by B, contracts with M to give to B. A is not discharged.


Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section 136 of Contract Act 1872 :

Lalit Kumar Jain vs Union Of India on 21 May, 2021

भारतीय संविदा अधिनियम, 1872 की धारा 136 का विवरण :  -  जब कि मूल ऋणी को समय देने का करार पर-व्यक्ति से किया जाता है, जब प्रतिभू उन्मोचित नहीं होता -- जहाँ कि मूल ऋणी को समय देने की संविदा लेनदार द्वारा किसी पर-व्यक्ति से न कि मूल ऋणी से की जाती है, वहाँ प्रतिभूउन्मोचित नहीं होता।

दृष्टान्त

 'ग' एक ऐसे अतिशोध्य विनिमय-पत्र का धारक है, जिसे 'क' ने 'ख' के प्रतिभू के रूप में लिखा और 'ख' ने प्रतिग्रहीत किया है। ‘ख’ को समय देने की संविदा 'ङ' से 'ग' करता है। ‘क’ उन्मोचित नहीं होता।


To download this dhara / Section of Contract Act in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.

Comments

Popular posts from this blog

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

संविधान के अनुच्छेद 19 में मूल अधिकार | Fundamental Right of Freedom in Article 19 of Constitution