Section 132 Contract Act 1872

 


Section 132 Contract Act 1872 in Hindi and English 



Section 132 Contract Act 1872 :Liability of two persons, primarily liable, not affected by arrangement between them that one shall be surety on other's default - Where two persons contract with a third person to undertake a certain liability, and also contract with each other that one of them shall be liable only on the default of the other, the third person not being a party to such contract, the liability of each of such two persons to the third person under the first contract is not affected by the existence of the second contract, although such third person may have been aware of its existence.


Illustration

A and B make a joint and several promissory note to C. A makes it, in fact, as surety for B, and C knows this at the time when the note is made. The fact that A, to the knowledge of C, made the note as surety for B, is no answer to a suit by C against A upon the note.

Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section 132 of Contract Act 1872 :

S. Chattanatha Karayalar vs The Central Bank Of India And ... on 9 March, 1965


भारतीय संविदा अधिनियम, 1872 की धारा 132 का विवरण :  -  प्रथमतः दायी दो व्यक्तियों के दायित्व पर उनके बीच के इस ठहराव का प्रभाव नहीं पड़ता कि उनमें से एक के व्यतिक्रम पर दूसरा प्रतिभू होगा -- जबकि दो व्यक्ति किसी दायित्व को अपने ऊपर लेने की किसी तृतीय व्यक्ति से संविदा करते हैं और वे दोनों एक-दूसरे के साथ भी यह संविदा करते हैं कि एक के व्यतिक्रम पर ही दूसरा दायी होगा, जिस संविदा का वह तृतीय व्यक्ति पक्षकार नहीं है, तब ऐसे दोनों व्यक्तियों में से हर एक के उस तृतीय व्यक्ति के प्रति प्रथम संविदा के अधीन दायित्व पर उस दूसरी संविदा के अस्तित्व का प्रभाव नहीं पड़ता, यद्यपि उस तृतीय व्यक्ति को उसके अस्तित्व की जानकारी रही हो।


दृष्टान्त

‘क’ और ‘ख’ संयुक्त और पृथक् दायित्व वाला एक वचनपत्र 'ग' के पक्ष में लिख देते हैं। ‘क’ उसे वास्तव में 'ख' के प्रतिभू रूप में लिखता है और जिस समय वह वचनपत्र लिखा जाता है ‘ग' यह बात जानता है। यह तथ्य कि 'क' ने यह वचनपत्र ‘ख’ के प्रतिभू के रूप में 'ग' की जानकारी में लिखा था वचनपत्र के आधार पर 'क' के विरुद्ध 'ग' द्वारा किए गए वाद का कोई उत्तर नहीं है।


To download this dhara / Section of Contract Act in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.

Comments

Popular posts from this blog

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

संविधान के अनुच्छेद 19 में मूल अधिकार | Fundamental Right of Freedom in Article 19 of Constitution