Section 127 Contract Act 1872

 

Section 127 Contract Act 1872 in Hindi and English 



Section 127 Contract Act 1872 :Consideration for guarantee — Anything done, or any promise made, for the benefit of the principal debtor, may be a sufficient consideration to the surety for giving the guarantee.


illustrations

(A) B equests A to sell and deliver to him goods on credit. A agrees to do so, provided C will guarantee the payment of the price of the goods. C promises to guarantee the payment in consideration of A's promise to deliver the goods. This is a sufficient consideration for C's promise.

(b) A sells and delivers goods to B. C afterwards requests A to forbear to sue B for the debt for a year, and promises that, if he does so, C will pay for them in default of payment by B. A agrees to forbear as requested. This is a sufficient consideration for C's promise.

(c) A sells and delivers goods to B. C afterwards, without consideration, agrees to pay for them in default of B. The agreement is void.



Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section 127 of Contract Act 1872 :

Y. Venkatachalapathi Reddy vs Bank Of India And Anr. on 2 April, 2002

Andhra High Court 

M/S Poysha Oxygen Pvt. Ltd. vs Sh. Ashwini Suri & Others on 30 July, 2009

Delhi High Court 

M/S Goyal Mg Gases Pvt. Ltd. vs Sh. Ashwini Suri & Others on 30 July, 2009

Delhi High Court 

Jayakunvar Manilal Shah vs Syndicate Bank on 5 December, 1991

Karnataka High Court 

Union Of India vs Avinash P. Bhonsle on 1 January, 1800

Bombay High Court 

Union Bank Of India vs Avinash P. Bhonsle on 24 April, 1991

Bombay High Court 

Ram Narain vs Lt. Col. Hari Singh And Anr. on 30 April, 1963

Rajasthan High Court 

Nanak Ram vs Mehin Lal on 10 April, 1877

Allahabad High Court 

Joydel Kumar Biswas vs Maduri Biswas on 11 July, 1994

Calcutta High Court 

State Bank Of India vs Smt. Kusum Vallabhdas Thakkar on 23 January, 1991

Gujarat High Court 


भारतीय संविदा अधिनियम, 1872 की धारा 127 का विवरण :  -  प्रत्याभूति के लिए प्रतिफल -- मूलऋणी के फायदे के लिए की गई कोई भी बात या दिया गया कोई वचन प्रतिभू द्वारा प्रत्याभूति दिये जाने का पर्याप्त प्रतिफल हो सकेगा।

दृष्टान्त 

(क) 'क' से 'ख' उधार बेचने और परदत्त करने की प्रार्थना करता है। 'क' वैसा करने को इस शर्त पर रजामन्द हो जाता है कि 'ग' माल की कीमत के संदाय की प्रत्याभूति दे। 'क' के इस वचन के प्रतिफलस्वरूप कि वह माल परिदान करेगा, 'ग' संदाय की प्रत्याभूति देता है। यह 'ग' के वचन के लिए पर्याप्त प्रतिफल है।

(ख) 'ख' को 'क' माल बेचता है और परिदत्त करता है। ‘ग' तत्पश्चात् ‘क’ से प्रार्थना करता है कि वह एक वर्ष तक । ऋण के लिए 'ख' पर वाद लाने से प्रविरत रहे और वचन देता है कि यदि वह ऐसा करेगा, जो 'ख' द्वारा संदाय में व्यतिक्रम होने पर 'ग' उस माल के लिए संदाय करेगा। 'क' यथाप्रार्थित प्रविरत रहने के लिए रजामन्द हो जाता है। यह 'ग' के वचन के लिए पर्याप्त प्रतिफल है।

(ग) 'ख' को 'क' माल बेचता है और परिदत्त करता है 'ग' तत्पश्चात् प्रतिफल के बिना करार करता है कि 'ख' द्वारा  व्यतिक्रम होने पर वह माल के लिए संदाय करेगा। करार शून्य है।


To download this dhara / Section of Contract Act in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.

Comments

Popular posts from this blog

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

संविधान के अनुच्छेद 19 में मूल अधिकार | Fundamental Right of Freedom in Article 19 of Constitution