Section 74 The Trade Marks Act, 1999

 


Section 74 The Trade Marks Act, 1999: 

Filing of regulations governing use of a certification trade mark.—

(1) There shall be filed at the Trade Marks Registry in respect of every mark registered as a certification trade mark regulations for governing the use thereof, which shall include provisions as to the cases in which the proprietor is to certify goods or services and to authorise the use of the certification trade mark, and may contain any other provisions which the Registrar may by general or special order, require or permit to be inserted therein (including provisions conferring a right of appeal to the Registrar against any refusal of the proprietor to certify goods or to authorise the use of the certification trade mark in accordance with the regulations); and regulations so filed shall be open to inspection in like manner as the register as provided in section 148.

(2) The regulations so filed may, on the application of the registered proprietor, be altered by the Registrar.

(3) The Registrar may cause such application to be advertised in any case where it appears to him expedient so to do, and where he does so, if within the time specified in the advertisement any person gives notice of opposition to the application, the Registrar shall not decide the matter without giving the parties an opportunity of being heard.



Supreme Court of India Important Judgments And Leading Case Law Related to Section 74 The Trade Marks Act, 1999: 

Tea Board vs Itc Limited on 20 April, 2011

Calcutta High Court 

Ram Rakhpal vs Amrit Dhara Pharmacy And Ors. on 14 December, 1956

Allahabad High Court 

Zahir Ahmed vs Azam Khan on 21 September, 1995

Calcutta High Court 

Sona Ana Pana Baulraj And Anr. vs S.P. Vadiveu Nadar And Sons And  on 13 September, 1963

Madras High Court 

Nishi Gupta vs M/S Cattle Remedies on 4 June, 2021

Delhi High Court 

Samsung Electronics Company Ltd. vs Mr. G. Choudhary And Anr. on 6 September, 2006



व्यापार चिह्न अधिनियम, 1999 की धारा 74 का विवरण : 

प्रमाणीकरण व्यापार चिह्न के उपयोग को शासित करने वाले विनियमों को फाइल करना-(1) प्रमाणीकरण व्यापार चिह्न के रूप रजिस्ट्रीकृत प्रत्येक चिह्न की बाबत उसके उपयोग को शासित करने वाले विनियम व्यापार चिह्न रजिस्ट्री में फाइल किए जाएंगे, जिसके अंतर्गत उन मामलों के बारे में उपबंध भी होंगे जिनमें स्वत्वधारी को माल या सेवाओं को प्रमाणित करना और प्रमाणीकरण व्यापार चिह्न के उपयोग को प्राधिकृत करना है और जिनमें कोई अन्य उपबंध भी अंतर्विष्ट हो सकेंगे जिन्हें रजिस्ट्रार साधारण या विशेष आदेश द्वारा, उनमें अन्तःस्थापित करने की अपेक्षा करे या अनुज्ञात करे (इसके अन्तर्गत स्वत्वधारी द्वारा माल को प्रमाणित करने या विनियमों के अनुसार प्रमाणीकरण व्यापार चिह्न के उपयोग को प्राधिकृत करने से इंकार करने के विरुद्ध रजिस्ट्रार को अपील करने का अधिकार प्रदान करने वाले उपबंध भी हैं) और इस प्रकार फाइल किए गए विनियम धारा 148 में जैसा उपबंधित है, रजिस्टर के समान ही निरीक्षण के लिए खुले रहेंगे ।


(2) इस प्रकार फाइल किए गए विनियम, रजिस्ट्रीकृत स्वत्वधारी के आवेदन पर, रजिस्ट्रार द्वारा परिवर्तित किए जा सकेंगे ।

(3) रजिस्ट्रार ऐसे आवेदन को ऐसी किसी दशा में विज्ञापित करा सकेगा जहां उसे यह प्रतीत हो कि ऐसा करना समीचीन है और जहां वह ऐसा कराता है, वहां यदि विज्ञापन में विनिर्दिष्ट समय के भीतर कोई व्यक्ति आवेदन के विरोध की सूचना देता है, तो रजिस्ट्रार पक्षकारों को सुनवाई का अवसर दिए बिना मामले का विनिश्चय नहीं करेगा ।

 


To download this dhara / Section of  The Trade Marks Act, 1999 in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.

Comments

Popular posts from this blog

100 Questions on Indian Constitution for UPSC 2020 Pre Exam

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर