Section 42 The Trade Marks Act, 1999

 


Section 42 The Trade Marks Act, 1999: 

Conditions for assignment otherwise than in connection with the goodwill of a business.—Where an assignment of a trade mark, whether registered or unregistered is made otherwise than in connection with the goodwill of the business in which the mark has been or is used, the assignment shall not take effect unless the assignee, not later than the expiration of six months from the date on which the assignment is made or within such extended period, if any, not exceeding three months in the aggregate, as the Registrar may allow, applies to the Registrar for directions with respect to the advertisement of the assignment, and advertises it in such form and manner and within such period as the Registrar may direct. Explanation.—For the purposes of this section, an assignment of a trade mark of the following description shall not be deemed to be an assignment made otherwise than in connection with the goodwill of the business in which the mark is used, namely:—

(a) an assignment of a trade mark in respect only of some of the goods or services for which the trade mark is registered accompanied by the transfer of the goodwill of the business concerned in those goods or services only; or

(b) an assignment of a trade mark which is used in relation to goods exported from India or in relation to services for use outside India if the assignment is accompanied by the transfer of the goodwill of the export business only.



Supreme Court of India Important Judgments And Leading Case Law Related to Section 42 The Trade Marks Act, 1999: 

Suresh Dhanuka vs Sunita Mohapatra on 2 December, 2011

Suresh Dhanuka vs Sunita Mohapatra on 2 December, 2011



व्यापार चिह्न अधिनियम, 1999 की धारा 42 का विवरण : 

किसी कारबार की गुडविल के संबंध से अन्यथा समनुदेशन की शर्तें-जहां किसी व्यापार चिह्न का, चाहे वह रजिस्ट्रीकृत हो या अरजिस्ट्रीकृत, समनुदेशन उस कारबार की जिसमें उस चिह्न का उपयोग किया गया था या किया जाता है, गुडविल के संबंध से अन्यथा किया गया है वहां समनुदेशन प्रभावी नहीं होगा जब तक कि समनुदेशिती समनुदेशन की तारीख से छह मास के अवसान के पहले या कुल मिलकार तीन मास से अनधिक ऐसी विस्तारित अवधि के भीतर, यदि कोई हो, जो रजिस्ट्रार अनुज्ञात करे, समनुदेशन के विज्ञापन की बाबत निर्देशों के लिए रजिस्ट्रार को आवेदन नहीं करता है और ऐसे प्ररूप और रीति में और इतनी अवधि के भीतर जितनी कि रजिस्ट्रार निर्दिष्ट करे, विज्ञापित नहीं करता है ।

स्पष्टीकरण-इस धारा के प्रयोजन के लिए निम्नलिखित विवरण वाले व्यापार चिह्न के समनुदेशन की बाबत यह नहीं समझा जाएगा कि वह ऐसा समनुदेशन है जो उस कारबार के, जिसमें उस चिह्न का उपयोग होता है, गुडविल के संबंध से अन्यथा किया गया है, अर्थात्: -

(क) जिस माल या सेवाओं के लिए व्यापार चिह्न रजिस्ट्रीकृत है, उसमें से कुछ की बाबत उस व्यापार चिह्न का समनुदेशन जिसके साथ केवल उस माल या सेवाओं से संपृक्त कारबार के गुडविल का अंतरण हुआ है; या

(ख) जिस व्यापार चिह्न का उपयोग भारत से निर्यातित माल के संबंध में या भारत से बाहर उपयोग के लिए सेवाओं के संबंध में होता है उसका समनुदेशन, यदि समनुदेशन के साथ केवल निर्यात कारबार के गुडविल का अंतरण हुआ है ।

 

To download this dhara / Section of  The Trade Marks Act, 1999 in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.

Comments

Popular posts from this blog

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

संविधान के अनुच्छेद 19 में मूल अधिकार | Fundamental Right of Freedom in Article 19 of Constitution