Section 62 CrPC

 

Section 62 CrPC in Hindi and English



Section 62 of CrPC 1973 :- 62. Summons how served -- (1) Every summons shall be served by a police officer, or subject to such rules as the State Government may make in this behalf, by an officer of the Court issuing it or other public servant.


(2) The summons shall, if practicable, be served personally on the person summoned delivering or tendering to him one of the duplicates of the summons.

(3) Every person on whom a summons is so served shall, if so required by the serving officer, sign a receipt therefor on the back of the other duplicate. 




Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section 62 of Criminal Procedure Code 1973:

State Of Karnataka vs K.A. Kunchindammed on 16 April, 2002

Biswabahan Das vs Gopen Chandra Hazarika & Ors on 21 September, 1966

P. Mohanraj vs M/S. Shah Brothers Ispat Pvt. Ltd. on 1 March, 2021

Mahant Kaushalya Das vs State Of Madras on 7 May, 1965

State Of Karnataka vs K. Krishnan on 17 August, 2000

Sankaran Moitra vs Sadhna Das & Anr on 24 March, 2006



दंड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 62 का विवरण :  -  62. समन की तामील कैसे की जाए -- (1) प्रत्येक समन की तामील पुलिस अधिकारी द्वारा या ऐसे नियमों के अधीन जो राज्य सरकार इस निमित्त बनाए, उस न्यायालय के, जिसने वह समन जारी किया है, किसी अधिकारी द्वारा या अन्य लोक-सेवक द्वारा की जाएगी। 


(2) यदि साध्य हो तो समन किए गए व्यक्ति पर समन की तामील उसे उस समन की दो प्रतियों में से एक का परिदान या निविदान करके वैयक्तिक रूप से की जाएगी।

(3) प्रत्येक व्यक्ति, जिस पर समन की ऐसे तामील की गई है, यदि तामील करने वाले अधिकारी द्वारा ऐसी अपेक्षा की जाती है तो, दूसरी प्रति के पृष्ठ भाग पर उसके लिए रसीद हस्ताक्षरित करेगा।



To download this dhara / Section of CrPC in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.

Comments

Popular posts from this blog

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान के अनुच्छेद 19 में मूल अधिकार | Fundamental Right of Freedom in Article 19 of Constitution