Section 88 Indian Evidence Act 1872

 

Section 88 Indian Evidence Act 1872 in Hindi and English 



Section 88 Evidence Act 1872 :Presumption as to telegraphic messages -- The Court may presume that a message, forwarded from a telegraph office to the person to whom such message purports to be addressed, corresponds with a message delivered for transmission at the office from which the message purports to be sent; but the Court shall not make any presumption as to the person by whom such message was delivered for transmission.



Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section 88 Indian Evidence Act 1872:

U.P.Avas Evam Vikas Parishad & Ors vs Om Prakash Sharma on 18 April, 2013

Mobarik Ali Ahmed vs The State Of Bombay on 6 September, 1957

Budhsen vs State Of U.P on 6 May, 1970



भारतीय साक्ष्य अधिनियम, 1872 की धारा 88 का विवरण :  -  तार संदेशों के बारे में उपधारणा -- न्यायालय यह उपधारित कर सकेगा कि कोई संदेश, जो किसी तार घर से उस व्यक्ति को भेजा गया है, जिसे ऐसे संदेश का संबोधित होना तात्पर्यित है, उस संदेश के समरूप है जो भेजे जाने के लिए उस कार्यालय को, जहां से वह संदेश पारेषित किया गया तात्पर्यित है, परिदत्त किया गया था, किन्तु न्यायालय उस व्यक्ति के बारे में, जिसने संदेश पारेषित किए जाने के लिए परिदत्त किया था, कोई उपधारणा नहीं करेगा।


To download this dhara / Section of Indian Evidence Act in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.

Comments

Popular posts from this blog

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान के अनुच्छेद 19 में मूल अधिकार | Fundamental Right of Freedom in Article 19 of Constitution