Section 105 Indian Evidence Act 1872

 Section 105 Indian Evidence Act 1872 in Hindi and English



Section 105 Evidence Act 1872 :Burden of proving that case of accused comes within exceptions -- When a person is accused of any offence, the burden of proving the existence of circumstances bringing the case within any of the General Exceptions in the Indian Penal Code (45 of 1860), or within any special exception or proviso contained in any other part of the same Code, or in any law defining the offence, is upon him, and the Court shall presume the absence of such circumstances.

Illustrations

(a) A, accused of murder, alleges that, by reason of unsoundness of mind, he did not know the nature of the act.

The burden of proof is on A.

(b) A, accused of murder, alleges that, by grave and sudden provocation, he was deprived of the power of self-control.

The burden of proof is on A.

(c) Section 325 of the Indian Penal Code provides that whoever, except in the case provided for by Section 335, voluntarily causes grievous hurt, shall be subject to certain punishments.

A is charged with voluntarily causing grievous hurt under section 325.

The burden of proving the circumstances bringing the case under section 335 lies on A.



Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section 105 Indian Evidence Act 1872:

Vijayee Singh And Ors vs State Of Uttar Pradesh on 20 April, 1990

Behram Khurshed Pesikaka vs The State Of Bombay on 24 September, 1954

Behram Khurshed Pesikaka vs The State Of Bombay.Reference on 19 February, 1954

Partap vs The State Of U.P on 10 September, 1975

K. M. Nanavati vs State Of Maharashtra on 24 November, 1961

Bhikari vs State Of Uttar Pradesh on 25 February, 1965

Paul vs The State Of Kerala on 21 January, 2020

Yogendra Morarji vs State Of Gujarat on 10 December, 1979

Dahyabhai Chhaganbhai Thakker vs State Of Gujarat on 19 March, 1964

Periasami And Another vs State Of Tamil Nadu on 25 September, 1996



भारतीय साक्ष्य अधिनियम, 1872 की धारा 105 का विवरण :  -  यह साबित करने का भार कि अभियुक्त का मामला अपवादों के अन्तर्गत आता है -- जबकि कोई व्यक्ति किसी अपराध का अभियुक्त है, तब उन परिस्थितियों के अस्तित्व को साबित करने का भार, जो उस मामले को भारतीय दण्ड संहिता (1860 का 45) के साधारण अपवादों में से किसी के अन्तर्गत या उसी संहिता के किसी अन्य भाग में, या उस अपराध की परिभाषा करने वाली किसी विधि में, अन्तर्विष्ट किसी विशेष अपवाद या परन्तुक के अन्तर्गत कर देती है, उस व्यक्ति पर है और न्यायालय ऐसी परिस्थितियों के अभाव की उपधारणा करेगा।


दृष्टांत

(क) हत्या का अभियुक्त, क अभिकथित करता है कि वह चित्त-विकृति के कारण उस कार्य की प्रकृति नहीं जानता था।

सबूत का भार क पर है।

(ख) हत्या का अभियुक्त, क, अभिकथित करता है कि वह गंभीर और अचानक प्रकोपन के कारण आत्मनियंत्रण की शक्ति से वंचित हो गया था।

सबूत का भार क पर है।

(ग) भारतीय दण्ड संहिता (1860 का 45) की धारा 325 उपबंध करती है कि जो कोई उस दशा के सिवाय जिसके लिए धारा 335 में उपबंध है, स्वेच्छया घोर उपहति करेगा, वह अमुक दण्डों से दण्डनीय होगा। क पर स्वेच्छया घोर उपहति कारित करने का, धारा 325 के अधीन आरोप है।

इस मामले को धारा 335 के अधीन लाने वाली परिस्थितियों को साबित करने का भार क पर है।


To download this dhara / Section of Indian Evidence Act in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.

Comments

Popular posts from this blog

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

संविधान के अनुच्छेद 19 में मूल अधिकार | Fundamental Right of Freedom in Article 19 of Constitution