Section 104 Indian Evidence Act 1872

 

Section 104 Indian Evidence Act 1872 in Hindi and English



Section 104 Evidence Act 1872 :Burden of proving fact to be proved to make evidence admissible -- The burden of proving any fact necessary to be proved in order to enable any person to give evidence of any other fact is on the person who wishes to give such evidence.


Illustrations

(a) A wishes to prove a dying declaration by B. A must prove B's death.

(b) A wishes to prove, by secondary evidence, the contents of a lost document. A must prove that the document has been lost.



Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section 104 Indian Evidence Act 1872:

Illias vs Collector Of Customs, Madras on 31 October, 1968

Romesh Chandra Mehta vs State Of West Bengal on 18 October, 1968

Bharat Barrel And Drum vs Amin Chand Payrelal on 18 February, 1999

Bishna @ Bhiswadeb Mahato & Ors vs State Of West Bengal on 28 October, 2005



भारतीय साक्ष्य अधिनियम, 1872 की धारा 104 का विवरण :  -  साक्ष्य को ग्राह्य बनाने के लिए जो तथ्य साबित किया जाना हो, उसे साबित करने का भार -- ऐसे तथ्य को साबित करने का भार जिसका साबित किया जाना किसी व्यक्ति को किसी अन्य तथ्य का साक्ष्य देने को समर्थ करने के लिए आवश्यक है, उस व्यक्ति पर है जो ऐसा साक्ष्य देना चाहता है।


दृष्टांत

(क) ख द्वारा किए गए मृत्युकालिक कथन को क साबित करना चाहता है। क को ख की मृत्यु साबित करनी होगी।

(ख) क किसी खोई हुई दस्तावेज की अन्तर्वस्तु को द्वितीयक साक्ष्य द्वारा साबित करना चाहता है।  क को यह साबित करना होगा कि दस्तावेज खो गई है।


To download this dhara / Section of Indian Evidence Act in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.

Comments

Popular posts from this blog

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

संविधान के अनुच्छेद 19 में मूल अधिकार | Fundamental Right of Freedom in Article 19 of Constitution