Section 58 Motor Vehicles Act,1988

 


Section 58 Motor Vehicles Act, 1988 in Hindi and English



Section 58 of MV Act 1988 :-  Special provisions in regard to transport vehicles -- (1) The Central Government may, having regard to the number, nature and size of the tyres attached to the wheels of a transport vehicle, (other than a motor cab), and its make and model and other relevant considerations, by notification in the Official Gazette, specify, in relation to each make and model of a transport vehicle, the [maximum gross vehicle weight] of such vehicle and the maximum safe axle weight of each axle of such vehicle.

(2) A registering authority, when registering a transport vehicle, other than a motor cab shall enter in the record of registration and shall also enter in the certificate of registration of the vehicle the following particulars, namely :-


(a) the unladen weight of the vehicle;

(b) the number, nature and size of the tyres attached to each wheel;

(c) the gross vehicle weight of the vehicle and the registered axle weights pertaining to the several axles thereof; and

(d) if the vehicle is used or adapted to be used for the carriage of passengers solely or in addition to goods, the number of passengers for whom accommodation is provided,

and the owner of the vehicle shall have the same particulars exhibited in the prescribed manner on the vehicle.

(3) There shall not be entered in the certificate of registration of any such vehicle any gross vehicle weight or a registered axle weight of any of the axles different from that specified in the notification under sub-section (1) in relation to the make and model of such vehicle and to the number, nature and size of the tyres attached to its wheels :

Provided that where it appears to the Central Government that heavier weights than those specified in the notification under sub-section (1) may be permitted in a particular locality for vehicles of a particular type, the Central Government may, by order in the Official Gazette direct that the provisions of this sub-section shall apply with such modifications as may be specified in the order. 

(5) In order that the gross vehicle weight entered in the certificate of registration of a vehicle may be revised in accordance with the provisions of subsection (3), the registering authority may require the owner of transport vehicle in accordance with such procedure as may be prescribed to produce the certificate of registration within such time as may be specified by the registering authority.


Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section 58 of Motor Vehicles Act, 1988:

Y. Mahaboob Sheriff And Others vs Mysore State Transport on 6 November, 1959

V.C. K. Bus Service Ltd vs The Regional Transport  on 19 February, 1957

Sher Singh & Ors vs Union Of India And Others on 21 October, 1983

Karnataka State Road Transport vs B. A. Jayaram And Others on 31 January, 1984

Kan Singh, Etc vs State Transport Appellate on 27 October, 1987

Bhikaji Narain Dhakras And Others vs The State Of Madhya Pradesh And  on 29 September, 1955

Punjab Sikh Regular Motor vs The Regional Transport on 15 October, 1965

Ram Gopal vs Anant Prasad And Another on 21 April, 1959

Shiv Chand Amolak Chand vs Regional Transport Authority & on 7 October, 1983

Cheran Transport Co. Ltd vs Kanan Lorry Service And Another on 10 December, 1976



मोटर यान अधिनियम, 1988 की धारा 58 का विवरण :  -  परिवहन यानों के बारे में विशेष उपबंध -- (1) केन्द्रीय सरकार (मोटर टैक्सी से भिन्न) किसी परिवहन यान के पहियों में लगे टायरों की संख्या, प्रकार और आकार और उनकी बनावट और मॉडल और अन्य सुसंगत बातों को ध्यान में रखते हुए, हर बनावट और मॉडल के परिवहन यान के संबंध में ऐसे यान का अधिकतम सकल यान भार और ऐसे यान की हर धुरी का निरापद अधिकतम धुरी भार, राजपत्र में अधिसूचना द्वारा, विनिर्दिष्ट कर सकेगी।

(2) रजिस्ट्रीकर्ता प्राधिकारी मोटर टैक्सी से भिन्न किसी परिवहन यान को रजिस्टर करते समय, रजिस्ट्रीकरण में और अभिलेख में और यान के रजिस्ट्रीकरण प्रमाण-पत्र में भी निम्नलिखित विशिष्टियां प्रविष्ट करेगा, अर्थात् :-  

(क) यान का लदान रहित भार;

(ख) हर पहिए में लगे टायरों की संख्या, प्रकार और आकार:

(ग) यान का सकल यान भार और उसकी विभिन्न धुरियों से संबंधित रजिस्ट्रीकृत धुरी भार; और

(घ) यदि केवल यात्रियों का या माल के साथ-साथ यात्रियों का वहन करने के लिए यान का उपयोग किया जाता है या वह उपयोग करने के लिए अनुकूलित किया जाता है तो उन यात्रियों की संख्या जिनके लिए उसमें बैठने की व्यवस्था है, तथा यान का स्वामी उन विशिष्टियों को विहित रीति से यान पर प्रदर्शित कराएगा ।

(3) ऐसे किसी यान के रजिस्ट्रीकरण प्रमाण-पत्र में कोई सकल यान भार या उसकी धुरियों में से किसी का ऐसा रजिस्ट्रीकृत धुरी भार प्रविष्ट नहीं किया जाएगा जो ऐसे यान की बनावट और मॉडल के तथा उसके पहियों पर लगे टायरों की संख्या, प्रकार और आकार के संबंध में उपधारा (1) के अधीन अधिसूचना में विनिर्दिष्ट भार से भिन्न हो :

परन्तु जहां केन्द्रीय सरकार को यह प्रतीत होता है कि उपधारा (1) के अधीन अधिसूचना में विनिर्दिष्ट भार से अधिक भारी भार किसी विशिष्ट प्रकार के यानों के लिए किसी विशिष्ट क्षेत्र में अनुज्ञात किए जा सकते हैं, वहां केन्द्रीय सरकार, राजपत्र में आदेश द्वारा निदेश दे सकेगी कि इस उपधारा के उपबंध ऐसे उपांतरणों के साथ लागू होंगे जो आदेश में विनिर्दिष्ट किए जाएं । 

(5) किसी यान के रजिस्ट्रीकरण प्रमाण-पत्र में दर्ज सकल यान भार का उपधारा (3) के उपबंधों के अनुसार, पुनरीक्षण करने की दृष्टि से रजिस्ट्रीकर्ता प्राधिकारी परिवहन यान के स्वामी से ऐसी प्रक्रिया के अनुसार, जैसी विहित की जाए, यह अपेक्षा कर सकेगा कि वह इतने समय के भीतर, जितना रजिस्ट्रीकर्ता प्राधिकारी द्वारा विनिर्दिष्ट किया जाए, रजिस्ट्रीकरण प्रमाण-पत्र प्रस्तुत करे ।



To download this dhara / Section of Motor Vehicle Act in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.

Comments

Popular posts from this blog

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

संविधान के अनुच्छेद 19 में मूल अधिकार | Fundamental Right of Freedom in Article 19 of Constitution