Section 446A CrPC

 

Section 446A CrPC in Hindi and English



Section 446A of CrPC 1973 :- 446-A. Cancellation of bond and bail-bond —

Without prejudice to the provisions of section 446, where a bond under this Code is for appearance of a person in a case and it is forfeited for breach of a condition

(a) the bond executed by such person as well as the bond, if any, executed by one or more of his sureties in that case shall stand cancelled; and

(b) thereafter no such person shall be released only on his own bond in that case, if the Police Officer or the Court, as the case may be, for appearance before whom the bond was executed, is satisfied that there was no sufficient cause for the failure of the person bound by the bond to comply with its condition :

Provided that subject to any other provision of this Code he may be released in that case upon the execution of a fresh personal bond for such sum of money and bond by one or more of such sureties as the Police Officer or the Court, as the case may be, thinks sufficient.



Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section 446A of Criminal Procedure Code 1973:

Sundeep Kumar Bafna vs State Of Maharashtra & Anr on 27 March, 2014

Sundeep Kumar Bafna vs State Of Maharashtra & Anr on 27 March, 1947

Aslam Babalal Desai vs State Of Maharashtra on 15 September, 1992

Ram Prakash Pandey vs State Of U.P. And Amr on 31 August, 2001



दंड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 446 क. का विवरण :  -  धारा 446 के उपबंधों पर प्रतिकूल प्रभाव डाले बिना, जहाँ इस संहिता के अधीन कोई बंधपत्र किसी मामले में हाजिर होने के लिए है और उसकी किसी शर्त के भंग होने के कारण उसका समपहरण हो जाता है, वहाँ--

(क) ऐसे व्यक्ति द्वारा निष्पादित बंधपत्र तथा उस मामले में उसके प्रतिभुओं द्वारा निष्पादित एक या अधिक बंधपत्र भी, यदि कोई हों, रद्द हो जाएंगे; और

(ख) तत्पश्चात् ऐसा कोई व्यक्ति, उस मामले में केवल अपने ही बंधपत्र पर छोड़ा नहीं जाएगा यदि, यथास्थिति, पुलिस अधिकारी या न्यायालय का, जिसके समक्ष हाजिर होने के लिए बंधपत्र निष्पादित किया गया था, यह समाधान हो जाता है कि बंधपत्र की शर्त का अनुपालन करने में असफल रहने के लिए बंधपत्र से आबद्ध व्यक्ति के पास कोई पर्याप्त कारण नहीं था :

परन्तु इस संहिता के किसी अन्य उपबंध के अधीन रहते हुए, उसे उस मामले में उस दशा में छोड़ा जा सकता है जब वह ऐसी धनराशि के लिए कोई नया व्यक्तिगत बंधपत्र निष्पादित कर दे और ऐसे एक या अधिक से प्रतिभुओं से बंधपत्र निष्पादित करा दे, जो यथास्थिति, पुलिस अधिकारी या न्यायालय पर्याप्त समझे ।



To download this dhara / Section of CrPC in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.

Comments

Popular posts from this blog

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान के अनुच्छेद 19 में मूल अधिकार | Fundamental Right of Freedom in Article 19 of Constitution