Section 444 CrPC

 

Section 444 CrPC in Hindi and English



Section 444 of CrPC 1973 :- 444. Discharge of sureties —

(1) All or any sureties for the attendance and appearance of a person released on bail may at any time apply to a Magistrate to discharge the bond, either wholly or so far as relates to the applicants.

(2) On such application being made, the Magistrate shall issue his warrant of arrest directing that the person so released be brought before him.

(3) On the appearance of such person pursuant to the warrant, or on his voluntary surrender, the Magistrate shall direct the bond to be discharged either wholly or so far as relates to the applicants and shall call upon such person to find other sufficient sureties and, if he fails to do so, may commit him to jail.



Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section 444 of Criminal Procedure Code 1973:

Mr. Parkar Hasan Abdul Gafoor vs State Of Maharashtra & Others on 22 December, 1998

Bombay High Court 

Order Dated 24.10.2014 In vs By Adv. Sri.P.B.Ajoy

Kerala High Court 

Sheik Abdullah vs Miskin on 23 April, 2010

Madras High Court 

Sandhya Das And Ors vs The State Of Jharkhand on 14 July, 2016

Jharkhand High Court 

J.M. Jain vs Ghamandiram K. Gowani on 4 February, 1977

Bombay High Court 

Er.V.Kanakarajan vs Mr.Ramanathan on 28 July, 2015

Madras High Court 

Prakash vs Deepak Kumar

Madras High Court 

Prakash vs Deepak Kumar

Madras High Court 

Prakash vs Deepak Kumar

Madras High Court 

Cyril Bertram Plucknett vs Emperor on 3 August, 1938

Calcutta High Court 



दंड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 444 का विवरण :  -  444. प्रतिभुओं का उन्मोचन --

(1) जमानत पर छोड़े गए व्यक्ति की हाजिरी और उपस्थिति के लिए प्रतिभुओं में से सब या कोई बन्धपत्र के या तो पूर्णतया या वहाँ तक, जहाँ तक वह आवेदकों से संबंधित है, प्रभावोन्मुक्त किए जाने के लिए किसी समय मजिस्ट्रेट से आवेदन कर सकते हैं।

(2) ऐसा आवेदन किए जाने पर मजिस्ट्रेट यह निदेश देते हुए गिरफ्तारी का वारण्ट जारी करेगा कि ऐसे छोड़े गए व्यक्ति को उसके समक्ष लाया जाए।

(3) वारण्ट के अनुसरण में ऐसे व्यक्ति के हाजिर होने पर या उसके स्वेच्छया अभ्यर्पण करने पर मजिस्ट्रेट बन्धपत्र के या तो पूर्णतया, या वहाँ तक, जहाँ तक कि वह आवेदकों से संबंधित है, प्रभावोन्मुक्त किए जाने का निदेश देगा और ऐसे व्यक्ति से अपेक्षा करेगा कि वह अन्य पर्याप्त प्रतिभू दे और यदि वह ऐसा करने में असफल रहता है तो उसे जेल सुपुर्द कर सकता है।



To download this dhara / Section of CrPC in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.

Comments

Popular posts from this blog

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान के अनुच्छेद 19 में मूल अधिकार | Fundamental Right of Freedom in Article 19 of Constitution