Section 373 CrPC

 Section 373 CrPC in Hindi and English



Section 373 of CrPC 1973 :- 373. Appeal from orders requiring security or refusal to accept or rejecting surety for keeping peace or good behaviour - Any person

(i) who has been ordered under section 117 to give security for keeping the peace or for good behaviour, or

(ii) who is aggrieved by any order refusing to accept or rejecting a surety under section 121,

may appeal against such order to the Court of Session :

Provided that nothing in this section, shall apply to persons the proceedings against whom are laid before a Sessions Judge in accordance with the provisions of sub-section (2) or sub-section (4) of section 122.



Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section 373 of Criminal Procedure Code 1973:

Yakub Abdul Razak Memon vs State Of Maharashtra Th:Cbi on 21 March, 2013

Roopendra Singh vs State Of Tripura & Anr on 11 April, 2017

Jagbir And Anr vs State Of Punjan on 3 September, 1998



दंड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 373 का विवरण :  -  373. परिशान्ति कायम रखने या सदाचार के लिए प्रतिभूति अपेक्षित करने वाले या प्रतिभूति स्वीकार करने से इंकार करने वाले या अस्वीकार करने वाले आदेश से अपील -- कोई व्यक्ति--

(i) जिसे परिशान्ति कायम रखने या सदाचार के लिए प्रतिभूति देने के लिए धारा 117 के अधीन आदेश दिया गया है, अथवा 

(ii) जो धारा 121 के अधीन प्रतिभू स्वीकार करने से इन्कार करने या उसे अस्वीकार करने वाले किसी आदेश से व्यथित है,

सेशन न्यायालय में ऐसे आदेश के विरुद्ध अपील कर सकता है ।

परन्तु इस धारा की कोई बात उन व्यक्तियों को लागू नहीं होगी जिनके विरुद्ध कार्यवाही सेशन न्यायाधीश के समक्ष धारा 122 की उपधारा (2) या उपधारा (4) के उपबंधों के अनुसार रखी गई है।



To download this dhara / Section of CrPC in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.

Comments

Popular posts from this blog

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान के अनुच्छेद 19 में मूल अधिकार | Fundamental Right of Freedom in Article 19 of Constitution