Section 37 Motor Vehicles Act,1988

 


Section 37 Motor Vehicles Act, 1988 in Hindi and English



Section 37 of MV Act 1988 :-  Savings -- If any licence to act as a conductor of a stage carriage (by whatever name called) has been issued in any State and is effective immediately before the commencement of this Act, it shall continue to be effective, notwithstanding such commencement, for the period for which it would have been effective, if this Act had not been passed, and every such licence shall be deemed to be a licence issued under this Chapter as if this Chapter had been in force on the date on which that licence was granted.



Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section 37 of Motor Vehicles Act, 1988:

Dibyasingh Malana vs State Of Orissa & Ors on 19 April, 1989


मोटर यान अधिनियम, 1988 की धारा 37 का विवरण :  -   व्यावृत्तियाँ -- यदि मंजिली गाड़ी के (चाहे वह किसी भी नाम से ज्ञात हो) कंडक्टर के रूप में कार्य करने के लिए कोई अनुज्ञप्ति किसी राज्य में दी जाती है और वह इस अधिनियम के प्रारंभ से तुरंत पूर्व प्रभावी है, तो ऐसे प्रारंभ के होते हुए भी वह उस अवधि के लिए प्रभावी बनी रहेगी, जिसके लिए वह उस दशा में प्रभावी होती जब यह अधिनियम पारित न किया गया होता और ऐसी प्रत्येक अनुज्ञप्ति की बाबत यह समझा जाएगा कि वह इस अध्याय के अधीन ऐसे दी गई अनुज्ञप्ति है मानो यह अध्याय उस तारीख को प्रवृत्त था, जिस तारीख को वह अनुज्ञप्ति दी गई थी।



To download this dhara / Section of Motor Vehicle Act in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.

Comments

Popular posts from this blog

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान के अनुच्छेद 19 में मूल अधिकार | Fundamental Right of Freedom in Article 19 of Constitution