Section 265 J. CrPC

 Section 265 J. CrPC in Hindi and English



Section  265 J. of CrPC 1973 :- 265 J. Savings - The provisions of this Chapter shall have effect notwithstanding anything inconsistent therewith contained in any other provisions of this Code and nothing in such other provisions shall be construed to constrain the meaning of any provision of this Chapter

Explanation - For the purposes of this Chapter, the expression “Public Prosecutor” has the meaning assigned to it under clause (u) of section 2 and includes an Assistant Public Prosecutor appointed under section 25. 



Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section  265 J. of Criminal Procedure Code 1973:



दंड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा  265 ञ. का विवरण :  -  265 ञ. व्यावृत्ति -- इस अध्याय के उपबंध इस संहिता के किन्हीं अन्य उपबंधों में अंतर्विष्ट उनसे असंगत किसी बात के होते हुए भी प्रभावी होंगे और ऐसे अन्य उपबंधों में किसी बात का यह अर्थ नहीं लगाया जाएगा कि वह इस अध्याय के किसी उपबंध के अर्थ को सीमित करती है।

स्पष्टीकरण -- इस अध्याय के प्रयोजनों के लिए, “लोक अभियोजक' पद का वही अर्थ होगा जो धारा 2 के खंड (प) के अधीन उसका है और इसमें धारा 25 के अधीन नियुक्त सहायक लोक अभियोजक सम्मिलित है।



To download this dhara / Section of CrPC in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.


Comments

Popular posts from this blog

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

संविधान के अनुच्छेद 19 में मूल अधिकार | Fundamental Right of Freedom in Article 19 of Constitution