Section 261 CrPC

 Section 261 CrPC in Hindi and English



Section 261 of CrPC 1973 :- 261. Summary trial by Magistrate of the second class ---- The High Court may confer on any Magistrate invested with the powers of a Magistrate of the second class power to try summarily any offence which is punishable only with fine or with imprisonment for a term not exceeding six months with or without fine, and any abetment of or attempt to commit any such offence.


Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section 261 of Criminal Procedure Code 1973:

Kadra Pahadiya And Ors. Etc vs State Of Bihar Etc on 19 March, 1997

Indian Bank Association & Ors vs Union Of India & Anr on 21 January, 1947



दंड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 261 का विवरण :  -  261. द्वितीय वर्ग के मजिस्ट्रटों द्वारा संक्षिप्त विचारण -- उच्च न्यायालय किसी ऐसे मजिस्ट्रेट को, जिसमें द्वितीय वर्ग मजिस्ट्रेट की शक्तियाँ निहित हैं, किसी ऐसे अपराध का, जो केवल जुर्माने से या जुर्माने सहित या रहित छह माह से अनधिक के कारावास से दण्डनीय है और ऐसे किसी अपराध के दुष्प्रेरण या ऐसे किसी अपराध को करने के प्रयत्न का संक्षेपतः विचारण करने की शक्ति प्रदान कर सकता है।



To download this dhara / Section of CrPC in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.

Comments

Popular posts from this blog

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान के अनुच्छेद 19 में मूल अधिकार | Fundamental Right of Freedom in Article 19 of Constitution