Section 246 CrPC

 

Section 246 CrPC in Hindi and English



Section 246 of CrPC 1973 :- 246. Procedure where accused is not discharged --- 

(1) If, when such evidence has been taken, or at any previous stage of the case, the Magistrate is of opinion that there is ground for presuming that the accused has committed an offence triable under this Chapter, which such Magistrate is competent to try and which, in his opinion, could be adequately punished by him, he shall frame in writing a charge against the accused.

(2) The charge shall then be read and explained to the accused, and he shall be asked whether he pleads guilty or has any defence to make.

(3) If the accused pleads guilty, the Magistrate shall record the plea, and may, in his discretion, convict him thereon.

(4) If the accused refuses to plead, or does not plead or claims to be tried or if the accused is not convicted under sub-section (3), he shall be required to state, at the commencement of the next hearing of the case, or, if the Magistrate for reasons to be recorded in writing so thinks fit, forthwith, whether he wishes to cross-examine any, and if so, which, of the witnesses for the prosecution whose evidence has been taken.

(5) If he says he does so wish, the witnesses named by him shall be recalled and, after cross-examination and re-examination (if any), they shall be discharged.

(6) The evidence of any remaining witnesses for the prosecution shall next be taken, and after cross-examination and re-examination (if any), they shall also be discharged.




Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section 246 of Criminal Procedure Code 1973:

Ajoy Kumar Ghose vs State Of Jharkhand & Anr on 18 March, 2009

Sunil Mehta & Anr vs State Of Gujarat & Anr on 20 February, 2013

Sabbi Mallesu And Ors vs State Of Andhra Pradesh on 12 July, 2006

Suresh Kumar Bhikamohand Jain vs Pandey Ajay Bhushan & Ors on 27 November, 1997

Hardeep Singh vs State Of Punjab & Ors on 10 January, 1947

R.S. Nayak vs A.R. Antulay & Anr on 17 April, 1986

Devinder Singh & Ors vs State Of Punjab Through Cbi on 25 April, 2016

Omparkash Shivprakash vs K.I. Kuriakose And Ors on 1 November, 1999

Sayeeda Farhana Shamim vs State Of Bihar & Anr on 16 May, 2008

Hardeep Singh vs State Of Punjab & Ors on 10 January, 2014



दंड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 246 का विवरण :  -  246. प्रक्रिया, जहाँ अभियुक्त उन्मोचित नहीं किया जाता --


(1) यदि ऐसा साक्ष्य ले लिए जाने पर या मामले के किसी पूर्वतन प्रक्रम में मजिस्ट्रेट की यह राय है कि ऐसी उपधारणा करने का आधार है कि अभियुक्त ने इस अध्याय के अधीन विचारणीय ऐसा अपराध किया है जिसका विचारण करने के लिए वह मजिस्ट्रेट सक्षम है और जो उसकी राय में उसके द्वारा पर्याप्त रूप से दंडित किया जा सकता है तो वह अभियुक्त के विरुद्ध आरोप लिखित रूप में विरचित करेगा।

(2) तब वह आरोप अभियुक्त को पढ़कर सुनाया और समझाया जाएगा और उससे पूछा जाएगा कि क्या वह दोषी होने का अभिवाक् करता है अथवा प्रतिरक्षा करना चाहता है।

(3) यदि अभियुक्त दोषी होने का अभिवचन करता है तो मजिस्ट्रेट उस अभिवाक् को लेखबद्ध करेगा और उसके आधार पर उसे, स्वविवेकानुसार, दोषसिद्ध कर सकेगा।

(4) यदि अभियुक्त अभिवचन करने से इंकार करता है या अभिवचन नहीं करता है या विचारण किए जाने का दावा करता है या यदि अभियुक्त को उपधारा (3) के अधीन दोषसिद्ध नहीं किया जाता है तो उससे अपेक्षा की जाएगी कि वह मामले की अगली सुनवाई के प्रारंभ में, या, यदि मजिस्ट्रेट उन कारणों से, जो लेखबद्ध किए जाएंगे, ऐसा ठीक समझता है तो, तत्काल बताए कि क्या वह अभियोजन के उन साक्षियों में से जिनका साक्ष्य लिया जा चुका है, किसी की प्रतिपरीक्षा करना चाहता है और, यदि करना चाहता है तो किसकी।

(5) यदि वह कहता है कि वह ऐसा चाहता है तो उसके द्वारा नामित साक्षियों को पुनः बुलाया जाएगा और प्रतिपरीक्षा के और पुन:परीक्षा (यदि कोई हो) के पश्चात् वे उन्मोचित कर दिए जाएंगे।

(6) फिर अभियोजन के किन्हीं शेष साक्षियों का साक्ष्य लिया जाएगा और प्रतिपरीक्षा के और पुन:परीक्षा (यदि कोई हों) के पश्चात् वे भी उन्मोचित कर दिए जाएंगे।



To download this dhara / Section of CrPC in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.

Comments

Popular posts from this blog

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान के अनुच्छेद 19 में मूल अधिकार | Fundamental Right of Freedom in Article 19 of Constitution