Section 219 CrPC

 Section 219 CrPC in Hindi and English


Section 219 of CrPC 1973 :- 219. Three offences of same kind within year may be charged together ----

(1) When a person is accused of more offences than one of the same kind committed within the space of twelve months from the first to the last of such offences, whether in respect of the same person or not, he  or not, he may be charged with and tried at one trial for, any number of them not exceeding three.

(2) Offences are of the same kind when they are punishable with the same amount of punishment under the same section of the Indian Penal Code (45 of 1865) or of any special or local laws :

Provided that, for the purposes of this section, an offence punishable under section 379 of the Indian Penal Code (45 of 1860) shall be deemed to be an offence of the same kind as an offence punishable under section 380 of the said Code and that an offence punishable under any section of the said Code, or of any special or local law, shall be deemed to be an offence of the same kind as an attempt to commit such offence, when such an attempt is an offence.



Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section 219 of Criminal Procedure Code 1973:

State Of Jharkhand vs Sajal Chakraborty on 8 May, 2017

Shivala Bhikhamsar vs Bablir Kumar Jatti And Ors on 8 May, 2017

State Of Maharashtra vs Priya Sharan Maharaj & Ors on 11 March, 1997

Vijay Mallya vs Enforcement Directorate,Min.Of  on 13 July, 2015

State Of U.P vs Paras Nath Singh on 5 May, 2009

Amitbhai Anilchandra Shah vs Cbi & Anr on 8 April, 2013

A.J. Peiris vs State Of Madras on 18 March, 1954

Girish Kumar Suneja vs Cbi on 13 July, 2017

R. R. Chari vs State Of U.P on 28 March, 1962

In Re Expeditious Trial Of Cases vs On 11.10.2020 Which Was on 16 April, 2021



दंड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 219 का विवरण :  -  219. एक ही वर्ष में किए गए एक ही किस्म के तीन अपराधों का आरोप एक साथ लगाया जा सकेगा--

(1) जब किसी व्यक्ति पर एक ही किस्म के ऐसे एक से अधिक अपराधों का अभियोग है जो उन अपराधों में से पहले अपराध से लेकर अंतिम अपराध तक बारह मास के अन्दर ही किए गए हैं, चाहे वे एक ही व्यक्ति के बारे में किए गए हों या नहीं, तब उस पर उनमें से तीन से अनधिक कितने ही अपराधों के लिए एक ही विचारण में आरोप लगाया और विचारण किया जा सकता है।

(2) अपराध एक ही किस्म के तब होते हैं जब वे भारतीय दण्ड संहिता (1860 का 45) या किसी विशेष या स्थानीय विधि की एक ही धारा के अधीन दण्ड की समान मात्रा से दण्डनीय होते हैं :

परन्तु इस धारा के प्रयोजनों के लिये यह समझा जाएगा कि भारतीय दण्ड संहिता (1860 का 45) की धारा 379 के अधीन दण्डनीय अपराध उसी किस्म का अपराध है जिस किस्म का उक्त संहिता की धारा 380 के अधीन दण्डनीय अपराध है, और भारतीय दण्ड संहिता या किसी विशेष या स्थानीय विधि की किसी धारा के अधीन दण्डनीय उसी किस्म का अपराध है जिस किस्म का ऐसे अपराध करने का प्रयत्न है, जब ऐसा प्रयत्न अपराध हो।



To download this dhara / Section of CrPC in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.

Comments

Popular posts from this blog

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

संविधान के अनुच्छेद 19 में मूल अधिकार | Fundamental Right of Freedom in Article 19 of Constitution