Section 191 Motor Vehicles Act, 1988

 


Section 191 Motor Vehicles Act, 1988 in Hindi and English



Section 191 of MV Act 1988 :- Section 191 omitted by the Motor Vehicles (Amendment) Act, 2019 (No. 32 of 2019). Published in the Gazette of India (Extra.) Part II Sec. 1 dated 9th August, 2019. Prior to this omission said Section 191 was as under :-

“ Sale of vehicle in or alteration of vehicle to condition contravening this Act -- Whoever being an importer of or dealer in motor vehicles, sells or delivers or offers to sell or deliver a motor vehicle or trailer in such condition that the use thereof in a public place would be in contravention of Chapter VII or any rule made thereunder or alters the motor vehicle or trailer so as to render its condition such that its use in a public place would be in contravention of Chapter VII or any rule made thereunder shall be punishable with fine which may extend to five hundred rupees :

Provided that no person shall be convicted under this section if he proves that he had reasonable cause to believe that the vehicle would not be used in a public place until it had been put into a condition in which it might lawfully be so used.".



Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section 191 of Motor Vehicles Act, 1988:Paramjit Bhasin And Ors vs Union Of India And Ors on 9 November, 2005



मोटर यान अधिनियम, 1988 की धारा 191 का विवरण :  -  मोटर यान (संशोधन) अधिनियम, 2019 (क्र. 32 सन् 2019) द्वारा धारा 191 का लोप किया गया । भारत काराजपत्र (असाधारण) भाग खण्ड 1 दिनांक 9 अगस्त, 2019 पर अंग्रेजी में प्रकाशित । इस विलोपन के पूर्व उक्त धारा 191 निम्नानुसार थी :-

“ यान का ऐसी हालत में विक्रय या यान का ऐसी हालत में परिवर्तन जिससे इस अधिनियम का उल्लंघन हो -- जो कोई मोटर यानों का आयातकर्ता या व्यापारी होते हुए मोटर यान या ट्रेलर का ऐसी हालत में विक्रय या परिदान करेगा अथवा विक्रय या परिदान की प्रस्थापना करेगा जिससे सार्वजनिक स्थान में उसके उपयोग से अध्याय 7 का या उसके अधीन बनाए गए किसी नियम का उल्लंघन होगा अथवा मोटर यान या ट्रेलर को ऐसे परिवर्तित करेगा कि उसकी ऐसी हालत हो जाए जिससे सार्वजनिक स्थान में उसके उपयोग से अध्याय 7 का या उसके अधीन बनाए गए किसी नियम का उल्लंघन होगा, वह जुर्माने से, जो पांच सौ रुपए तक का हो सकेगा, दण्डनीय होगा :

परन्तु कोई भी व्यक्ति इस धारा के अधीन उस दशा में दोषसिद्ध न किया जाएगा जिसमें वह साबित कर देता है कि उसके पास यह विश्वास करने का उचित कारण था कि वह यान सार्वजनिक स्थान में तब तक उपयोग में न लाया जाएगा जब तक वह ऐसी हालत में नहीं कर दिया जाता जिसमें उसका ऐसा उपयोग विधिपूर्णतया किया जा सकता है।" ।



To download this dhara / Section of Motor Vehicle Act in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.

Comments

Popular posts from this blog

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

संविधान के अनुच्छेद 19 में मूल अधिकार | Fundamental Right of Freedom in Article 19 of Constitution