Section 185 CrPC

 

Section 185 CrPC in Hindi and English



Section 185 of CrPC 1973 :- 185. Power to order cases to be tried in different sessions divisions - Notwithstanding anything contained in the preceding provisions of this Chapter, the State Government may direct that any cases or class of cases committed for trial in any district may be tried in any sessions division :

Provided that such direction is not repugnant to any direction previously issued by the High Court or the Supreme Court under the Constitution, or under this Code or any other law for the time being in force.



Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section 185 of Criminal Procedure Code 1973:

Md.Shahabuddin vs State Of Bihar & Ors on 25 March, 2010

Union Of India vs Ashok Kumar Sharma on 28 August, 2020



दंड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 185 का विवरण :  -  185. विभिन्न सेशन खण्डों में मामलों के विचारण का आदेश देने की शक्ति -- इस अध्याय के पूर्ववर्ती उपबंधों में किसी बात के होते हुए भी, राज्य सरकार निदेश दे सकती है कि ऐसे किन्हीं मामलों का या किसी वर्ग के मामलों का विचारण, जो किसी जिले में विचारणार्थ सुपुर्द हो चुके हैं, किसी भी सेशन खण्ड में किया जा सकता है :

परन्तु यह तब जबकि ऐसा निदेश उच्च न्यायालय या उच्चतम न्यायालय द्वारा संविधान के अधीन या इस संहिता के या तत्समय प्रवृत्त किसी अन्य विधि के अधीन पहले ही जारी किए गए किसी निदेश के विरुद्ध नहीं है।



To download this dhara / Section of CrPC in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.

Comments

Popular posts from this blog

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान के अनुच्छेद 19 में मूल अधिकार | Fundamental Right of Freedom in Article 19 of Constitution