Section 127 Motor Vehicles Act, 1988

 


Section 127 Motor Vehicles Act, 1988 in Hindi and English



Section 127 of MV Act 1988 :- Removal of motor vehicles abandoned or left unattended on a public place -- (1) Where any motor vehicle is abandoned or left unattended on a public place for ten hours or more or is parked in a place where parking is legally prohibited, its removal by a towing service or its immobilisations by any means including wheel clamping may be authorised by a police officer in uniform having jurisdiction.

(2) Where an abandoned, unattended, wrecked, burnt or partially dismantled vehicle is creating a traffic hazard because of its position in relation to the [public place] or its physical appearance is causing the impediment to the traffic, its immediate removal from the [public place] by a towing service may be authorised by a police officer having jurisdiction.

(3) Where a vehicle is authorised to be removed under sub-section (1) or sub-section (2) by a police officer, the owner of the vehicle shall be responsible for all towing costs, besides any other penalty.



Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section 127 of Motor Vehicles Act, 1988:

Transport Commissioner, Andhra vs Sardar Ali, Bus Owner on 26 August, 1983

S.Rajaseekaran vs Union Of India & Ors on 22 April, 2014

S.Rajaseekaran vs Union Of India & Ors on 22 April, 1947



मोटर यान अधिनियम, 1988 की धारा 127 का विवरण :  -  सार्वजनिक स्थान पर परित्यक्त या अकेला छोड़े गए मोटर यानों का हटाया जाना -- (1) जहां कोई मोटर यान किसी सार्वजनिक स्थान पर दस घंटे या उससे अधिक तक परित्यक्त या अकेला छोड़ दिया जाता है अथवा किसी ऐसे स्थान पर खड़ा किया जाता है जहां ऐसा खड़ा किया जाना विधिक रूप से प्रतिषिद्ध है वहां अधिकारिता प्राप्त वर्दी पहने हुए पुलिस अधिकारी, यान अनुकर्षण सेवा द्वारा उसके हटाने को अथवा किसी अन्य साधन द्वारा, जिसके अंतर्गत पहिया क्लैम्पन है, उसकी निश्चलता को प्राधिकृत कर सकेगा।

(2) जहां कोई परित्यक्त, अकेला छोड़ा गया, टूटा हुआ, जला हुआ या आंशिक रूप से खुला हुआ यान, सार्वजनिक स्थान के संबंध में, उसकी स्थिति के कारण, यातायात संकट उत्पन्न कर रहा है अथवा उसकी विद्यमानता यातायात में बाधा उत्पन्न कर रही है वहां अधिकारिता प्राप्त पुलिस अधिकारी द्वारा उसको यान अनुकर्षण सेवा द्वारा सार्वजनिक स्थान से तुरंत हटाने के लिए प्राधिकृत किया जा सकता है ।

(3) जहां कोई यान उपधारा (1) या उपधारा (2) के अधीन किसी पुलिस अधिकारी द्वारा हटाए जाने के लिए प्राधिकृत किया जाता है, वहां यान का स्वामी सभी अनुकर्षण खर्चों तथा उसके अतिरिक्त किसी अन्य शास्ति के लिए भी उत्तरदायी होगा ।



To download this dhara / Section of Motor Vehicle Act in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.

Comments

Popular posts from this blog

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान के अनुच्छेद 19 में मूल अधिकार | Fundamental Right of Freedom in Article 19 of Constitution