PIL On Labor Law/Labor Law


1,श्रम कानून के अंतर्गत एशियाड मजदूरों द्वारा उनके अधिकारों की मांग का मामला

प्रश्न०  इस मामले के तथ्य क्या थे ? 

उ० दिल्ली प्रशासन द्वारा एशियाड परियोजना के निर्माण हेतु ठेकेदारों के माध्यम से एक लाख से अधिक मजदूर नियुक्त किए गए थे । सरकारी अभिकरणों तथा ठेकेदारों ने ठेके पर नियुक्त मजदूरों से संबंधित श्रमिक नियमों की कोई परवाह नहीं की । उन को न्यूनतम मजदूरी तक भी नहीं दी गई । एक स्वतंत्र पत्रकार श्री बी. टी. पदमनाभन कि उन मजदूरों के शोषण के विषय में रिपोर्ट मेनस्ट्रीम नामक पत्रिका( अगस्त 1981) मैं प्रकाशित हुई । उसे पीपल्स यूनियन फॉर डेमोक्रेटिक राइट्स के अध्यक्ष के पत्र के  साथ उच्चतम न्यायालय को भेज दिया गया था । न्यायालय ने उस पत्र को स्वीकार कर लिया और उसने मजदूरों के काम संबंधित परिस्थितियों की जांच करने के लिए कोकपालों की नियुक्ति कर दी ।

प्रश्न०  इस मामले में उच्चतम न्यायालय ने क्या फैसला दिया ? 

उ०  इस मामले में न्यायालय द्वारा लिया गया निर्णय एक ऐतिहासिक निर्णय था क्योंकि इसके आधार पर वैद्य स्थिति मूल अधिकारों तथा सरकार के दायित्व की सीमा को विस्तृत किया गया था । 

Comments

Popular posts from this blog

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

संविधान के अनुच्छेद 19 में मूल अधिकार | Fundamental Right of Freedom in Article 19 of Constitution