Section 91 The Trade Marks Act, 1999

 


Section 91 The Trade Marks Act, 1999: 


Appeals to Appellate Board.—

(1) Any person aggrieved by an order or decision of the Registrar under this Act, or the rules made thereunder may prefer an appeal to the Appellate Board within three months from the date on which the order or decision sought to be appealed against is communicated to such person preferring the appeal.

(2) No appeal shall be admitted if it is preferred after the expiry of the period specified under sub-section (1): Provided that an appeal may be admitted after the expiry of the period specified therefor, if the appellant satisfies the Appellate Board that he had sufficient cause for not preferring the appeal within the specified period.

(3) An appeal to the Appellate Board shall be in the prescribed form and shall be verified in the prescribed manner and shall be accompanied by a copy of the order or decision appealed against and by such fees as may be prescribed.



Supreme Court of India Important Judgments And Leading Case Law Related to Section 92 The Trade Marks Act, 1999: 

Pacs vs Union on 6 September, 2010

Shri Satish Sharma S/O R.C. Sharma vs The Registrar Of Trade Marks, on 15 October, 2007

Smt. Sandhya Sharma W/O Satish vs The Registrar Of Trade Marks,  on 15 October, 2007

Rameshchandra Ramkishan Sarda vs Shri Shankarrao Chavan on 16 March, 2009

Vanita Dilip Chawla vs Fresh Meals India Private Ltd. } on 25 August, 2010



व्यापार चिह्न अधिनियम, 1999 की धारा 92 का विवरण : 

 अपील बोर्ड को अपील-(1) कोई ऐसा व्यक्ति जो इस अधिनियम या तद्धीन बनाए गए नियमों के अधीन रजिस्ट्रार के आदेश या विनिश्चय से व्यथित है, अपील बोर्ड को ऐसी तारीख से, जिसको ऐसा आदेश या विनिश्चय जिसके विरुद्ध अपील की जा रही हो, अपील करने वाले ऐसे व्यक्ति को संसूचित किया गया है, तीन मास के भीतर अपील कर सकेगा ।

(2) यदि कोई अपील उपधारा (1) के अधीन विनिर्दिष्ट अवधि की समाप्ति के पश्चात् की जाती है तो वह ग्रहण नहीं की जाएगी:परंतु कोई अपील उसके लिए विनिर्दिष्ट अवधि की समाप्ति के पश्चात् ग्रहण की जा सकेगी यदि अपीलार्थी अपील बोर्ड का यह समाधान कर देता है कि उसके पास विनिर्दिष्ट अवधि के भीतर अपील न करने का पर्याप्त हेतुक था ।

(3) अपील बोर्ड को अपील विहित प्ररूप में की जाएगी और वह विहित रीति से सत्यापित होगी और उसके साथ उस आदेश या विनिश्चय की, जिसके विरुद्ध अपील की जा रही है, एक प्रति और ऐसी फीस, जो विहित की जाए, होगी ।


To download this dhara / Section of  The Trade Marks Act, 1999 in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.

Comments

Popular posts from this blog

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

संविधान के अनुच्छेद 19 में मूल अधिकार | Fundamental Right of Freedom in Article 19 of Constitution