Section 118 The Trade Marks Act, 1999

 


Section 118 The Trade Marks Act, 1999: 

 Limitation of prosecution.—No prosecution for an offence under this Act or under clause (b) of section 112 of the Customs Act, 1962 (52 of 1962), relating to confiscation of goods under clause (d) of section 111 and notified by the Central Government under clause (n) of sub-section (2) of section 11 of the said Act for the protection of trade marks, relating to import of goods shall be commenced after expiration of three years next after the commission of the offence charged, or two years after the discovery thereof by the prosecutor, whichever expiration first happens.



Supreme Court of India Important Judgments And Leading Case Law Related to Section 118 The Trade Marks Act, 1999: 

Whether Reporters Of Local Papers  vs State Of Gujarat & on 20 January, 2017

Ram Lal Singh vs The District Judge, Fatehpur And on 5 March, 1975



व्यापार चिह्न अधिनियम, 1999 की धारा 118 का विवरण : 

 अभियोजन की परिसीमा-इस अधिनियम के अधीन या सीमाशुल्क अधिनियम, 1962 (1962 का 52) की धारा 112 के खंड (ख) के अधीन या धारा 111 के खंड (घ) के अधीन माल के अधिहरण से संबंधित और माल के आयात से संबंधित व्यापार चिह्न के संरक्षण के लिए उक्त अधिनियम की धारा 11 की उपधारा (2) के खंड (ढ) के अधीन केन्द्रीय सरकार द्वारा अधिसूचित अपराध के लिए कोई अभियोजन आरोपित अपराध के किए जाने के ठीक तीन वर्ष या उसके अभियोजक को पता चलने के दो वर्ष के अवसान के पश्चात् दोनों अवसानों में से जो भी पहले घटित हो, प्रारंभ नहीं किया जाएगा ।



To download this dhara / Section of  The Trade Marks Act, 1999 in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.

Comments

Popular posts from this blog

100 Questions on Indian Constitution for UPSC 2020 Pre Exam

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर