Section 366 IPC in Hindi and English

 Section 366 IPC in Hindi and English



Section 366 of IPC 1860:- Kidnapping, abducting or inducing woman to compel her marriage, etc. -

Whoever kidnaps or abducts any woman with intent that she may be compelled, or knowing it to be likely that she will be compelled, to marry any person against her will, or in order that she may be forced or seduced to illicit intercourse, or knowing it to be likely that she will be forced or seduced to illicit intercourse, shall be punished with imprisonment of either description for a term which may extend to ten years, and shall also be liable to fine;

and whoever, by means of criminal intimidation as defined in this Code or of abuse of authority or any other method of compulsion, induces any woman to go from any place with intent that she may be, or knowing that it is likely that she will be, forced or seduced to illicit intercourse with another person shall be punishable as aforesaid.



Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section 366 of Indian Penal Code 1860:

Kavita Chandrakant Lakhani vs The State Of Maharashtra on 24 April, 2018

Tarkeshwar Sahu vs State Of Bihar (Now Jharkhand) on 29 September, 2006

Sunil Kumar @ Sudhir Kumar vs The State Of Uttar Pradesh Through on 25 May, 2021

Alamelu & Anr vs State Rep.By Inspector Of Police on 18 January, 2011

Gabbu vs State Of M.P on 12 May, 2006

Gurcharan Singh vs State Of Haryana on 13 September, 1972

Kunal Majumdar vs State Of Rajasthan on 12 September, 2012

Kuldeep K. Mahato vs State Of Bihar on 6 August, 1998

State Of Haryana vs Raja Ram on 27 October, 1972

Anversinh @ Kiransinh Fatesinh vs The State Of Gujarat on 12 January, 2021



आईपीसी, 1860 (भारतीय दंड संहिता) की धारा 366 का विवरण - विवाह आदि के करने को विवश करने के लिए किसी स्त्री को व्यपहृत करना, अपहृत करना या उत्प्रेरित करना -

जो कोई किसी स्त्री का व्यपहरण या अपहरण उसकी इच्छा के विरुद्ध किसी व्यक्ति से  विवाह करने के लिए उस स्त्री को विवश करने के आशय से या वह विवश की जाएगी, यह संभाव्य जानते हुए अथवा अयुक्त संभोग करने के लिए उस स्त्री को विवश या विलुब्ध करने के लिए या वह स्त्री अयुक्त संभोग करने के लिए विवश या विलुब्ध की जाएगी, यह सम्भाव्य जानते हुए करेगा, वह दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि दस वर्ष तक की हो सकेगी, दण्डित किया जाएगा और जुर्माने से भी दण्डनीय होगा, और जो कोई किसी स्त्री को किसी अन्य व्यक्ति से अयुक्त संभोग करने के लिए विवश या विलुब्ध करने के आशय से या वह विवश या विलुब्ध की जाएगी, यह संभाव्य जानते हुए इस संहिता में यथा परिभाषित आपराधिक अभित्रास द्वारा अथवा प्राधिकार के दुरुपयोग या विवश करने के अन्य साधन द्वारा उस स्त्री को किसी स्थान से जाने को उत्प्रेरित करेगा, वह भी पूर्वोक्त प्रकार से दण्डित किया जाएगा।



To download this dhara of IPC in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.

Comments

Popular posts from this blog

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

संविधान के अनुच्छेद 19 में मूल अधिकार | Fundamental Right of Freedom in Article 19 of Constitution