Section 503 IPC in Hindi and English

Section 503 IPC in Hindi and English


Section 503 of IPC 1860:-  Criminal intimidation -

Whoever threatens another with any injury to his person, reputation or property, or to the person or reputation of any one in whom that person is interested, with intent to cause alarm to that person, or to cause that person to do any act which he is not legally bound to do, or to omit to do any act which that person is legally entitled to do, as the means of avoiding the execution of such threat, commits criminal intimidation.

Explanation - A threat to injure the reputation of any deceased person in whom the person threatened is interested, is within this section.

Illustration -

A for the purpose of inducing B to desist from prosecuting a civil suit, threatens to burn B's house. A is guilty of criminal intimidation.



Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section 503 of Indian Penal Code 1860:

Vikram Johar vs The State Of Uttar Pradesh on 26 April, 2019

Srinivas Gundluri & Ors vs M/S. Sepco Electric Power Const. on 30 July, 2010

Romesh Chandra Arora vs The State on 6 October, 1959

Tilak Raj vs State Of Himachal Pradesh on 6 January, 2016

Manik Taneja & Anr vs State Of Karnataka & Anr on 20 January, 2015

Joseph Salvaraj A vs State Of Gujarat & Ors on 4 July, 2011

Tilaknagar Industries Ltd.& Ors vs State Of A.P. & Anr on 19 October, 2011

Ram Swarup vs Mohd. Javed Razack & Anr on 23 February, 2005



आईपीसी, 1860 (भारतीय दंड संहिता) की धारा 503 का विवरण -  आपराधिक अभित्रास -

जो कोई किसी अन्य व्यक्ति के शरीर, ख्याति या सम्पत्ति को, या किसी ऐसे व्यक्ति के शरीर या ख्याति को, जिससे कि वह व्यक्ति हितबद्ध हो कोई क्षति करने की धमकी उस अन्य व्यक्ति को इस आशय से देता है कि उसे संत्रास कारित किया जाए, या उससे ऐसे धमकी के निष्पादन का परिवर्जन करने के साधन स्वरूप कोई ऐसा कार्य कराया जाए, जिसे करने के लिए वह वैध रूप से आबद्ध न हो, या किसी ऐसे कार्य को करने का लोप कराया जाए, जिसे करने के लिए वह वैध रूप से हकदार हो, वह आपराधिक अभित्रास करता है।

स्पष्टीकरण - किसी ऐसे मृत व्यक्ति की ख्याति को क्षति करने की धमकी जिससे वह व्यक्ति, जिसे धमकी दी गई है, हितबद्ध हो इस धारा के अन्तर्गत आता है।

दृष्टांत -

सिविल वाद चलाने से प्रतिविरत रहने के लिए ख को उत्प्रेरित करने के प्रयोजन से ख के घर को जलाने की धमकी क देता है। क आपराधिक अभित्रास का दोषी है। 



To download this dhara of IPC in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.

Comments

Popular posts from this blog

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान के अनुच्छेद 19 में मूल अधिकार | Fundamental Right of Freedom in Article 19 of Constitution