Section 508 IPC in Hindi and English

 

Section 508 IPC in Hindi and English



Section 508 of IPC 1860:-  Act caused by inducing person to believe that he will be rendered an object to the Divine displeasure. -

Whoever voluntarily causes or attempts to cause any person to do anything which that person is not legally bound to do, or to omit to do anything which he is legally entitled to do, by inducing or attempting to induce that person to believe that he or any person in whom he is interested will become or will be rendered by some act of the offender an object of Divine displeasure if he does not do the thing which it is the object of the offender lo cause him to do or if he does the thing which it is the object of the offender to cause him to omit shall be punished with imprisonment of either description tor a term which may extend to one year, or with fine, or with both.

illustrations 

(a) A sits dharna at Z’s door with the intention of causing it to be believed that, by so sitting, he renders Z an object of Divine displeasure. A has committed the offense defined in this section.

(b) A threatens Z that, unless Z performs a certain act, A will kill one of A's own children, under such circumstances that the killing would be believed to render Z an object of Divine displeasure. A has committed the offense defined in this section. 



Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section 508 of Indian Penal Code 1860:

Girraj vs Kiranpal on 8 March, 2021



आईपीसी, 1860 (भारतीय दंड संहिता) की धारा 508 का विवरण -  व्यक्ति को यह विश्वास करने के लिए उत्प्रेरित करके कि वह दैवी अप्रसाद का भाजन होगा कराया गया कार्य -

जो कोई किसी व्यक्ति को यह विश्वास करने के लिये उत्प्रेरित करके या उत्प्रेरित करने का प्रयत्न करके, कि यदि वह उस बात को न करेगा, जिसे उससे कराना अपराधी का उद्देश्य हो, या यदि वह उस बात को करेगा, जिसका उससे लोप कराना अपराधी का उद्देश्य हो, तो वह या कोई व्यक्ति, जिससे वह हितबद्ध है, अपराधी के किसी कार्य से दैवी अप्रसाद का भाजन हो जाएगा या बना दिया जाएगा, स्वेच्छया उस व्यक्ति से कोई ऐसी बात करवायेगा या करवाने का प्रयत्न करेगा, जिसे करने के लिये वह वैध रूप से आबद्ध न हो या किसी ऐसी बात के करने का लोप करवायेगा या करवाने का प्रयत्न करेगा, जिसे करने के लिए वह वैध रूप से हकदार हो, वह दोनों में से किसी भाँति के कारावास से, जिसकी अवधि एक वर्ष तक की हो सकेगी या जुर्माने से, या दोनों से, दण्डित किया जायेगा।

दृष्टान्त -

(क) क, यह विश्वास कराने के आशय से व के द्वार पर धरना देता हे कि इस प्रकार धरना देने से वह य को दैवी अप्रसाद का भाजन बना रहा है। क ने उस धारा में परिभाषित अपराध किया है।

(ख) क, य को धमकी देता है, कि यदि व अमुक कार्य नहीं करेगा, तो क अपने बच्चों में से किसी एक का वध ऐसी परिस्थितियों में कर डालेगा, जिससे ऐसे वध करने के परिणामस्वरूप यह विश्वास किया जाये, कि य दैवी अप्रसाद का भाजन बना दिया गया है। क ने इस धारा में परिभाषित अपराध किया है।



To download this dhara of IPC in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.

Comments

Popular posts from this blog

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान के अनुच्छेद 19 में मूल अधिकार | Fundamental Right of Freedom in Article 19 of Constitution