Section 361 IPC in Hindi and English

 Section 361 IPC in Hindi and English



Section 361 of IPC 1860:-Kidnapping from lawful guardianship -

Whoever takes or entices any minor under [sixteen] years of age if a male, or under [eighteen] years of age if a female, or any person of unsound mind, out of the keeping of the lawful guardian of such minor or person of unsound mind, without the consent of such guardian, is said to kidnap such minor or person from lawful guardianship.

Explanation - The words "lawful guardian” in this section include any person lawfully entrusted with the care or custody of such minor or other person.

Exception - This section does not extend to the act of any person who in good faith believes himself to be the father of an illegitimate child, or who in good faith believes himself to be entitled to lawful custody of such child, unless such act is committed for an immoral or unlawful purpose.



Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section 361 of Indian Penal Code 1860:

State Of Haryana vs Raja Ram on 27 October, 1972

Parkash vs State Of Haryana on 2 December, 2003

Anversinh @ Kiransinh Fatesinh vs The State Of Gujarat on 12 January, 2021

Sushil Murmu vs State Of Jharkhand on 12 December, 2003

S. Varadarajan vs State Of Madras on 9 September, 1964

Bablu @ Mubarik Hussain vs State Of Rajasthan à Respondent on 12 December, 2006

Bablu @ Mubarik Hussain vs State Of Rajasthan Àrespondent on 12 December, 2006

State Of Rajasthan vs Kheraj Ram on 22 August, 2003

Lehna vs State Of Haryana on 22 January, 2002

Moniram Hazarika vs State Of Assam on 13 April, 2004



आईपीसी, 1860 (भारतीय दंड संहिता) की धारा 361 का विवरण -  विधिपूर्ण संरक्षकता में से व्यपहरण -

जो कोई किसी अप्राप्तवय को, यदि वह नर हो, तो सोलह वर्ष से कम आयु वाले को, या यदि वह नारी हो तो, अठारह वर्ष से कम आयु वाली को या किसी विकृतचित्त व्यक्ति को ऐसे अप्राप्तवय या विकृतचित्त व्यक्ति के विधिपूर्ण संरक्षकता में से ऐसे संरक्षक की सम्मति के बिना ले जाता है या बहका ले जाता है, वह ऐसे अप्राप्तवय या ऐसे व्यक्ति का विधिपूर्ण संरक्षकता में से व्यपहरण करता है, यह कहा जाता है।

स्पष्टीकरण - इस धारा में “विधिपूर्ण संरक्षक” शब्दों के अन्तर्गत ऐसा व्यक्ति आता है जिस पर ऐसे अप्राप्तवय या अन्य व्यक्ति की देखरेख या अभिरक्षा का भार विधिपूर्वक न्यस्त किया गया है।

अपवाद - इस धारा का विस्तार किसी ऐसे व्यक्ति के कार्य पर नहीं है, जिसे सद्भावपूर्वक यह विश्वास है कि वह किसी अधर्मज शिशु का पिता है, या जिसे सद्भावपूर्वक यह विश्वास है कि वह ऐसे शिशु की विधिपूर्ण अभिरक्षा का हकदार है, जब तक कि ऐसा कार्य दुराचारिक या विधिविरुद्ध प्रयोजन के लिए न किया जाए।



To download this dhara of IPC in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.

Comments

Popular posts from this blog

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान के अनुच्छेद 19 में मूल अधिकार | Fundamental Right of Freedom in Article 19 of Constitution