Section 327 IPC in Hindi and English

 Section 327 IPC in Hindi and English



Section 327 of IPC 1860:-Voluntarily causing hurt to extort confession, or to compel restoration of property -

Whoever voluntarily causes hurt for the purpose of extorting from the sufferer or from any person interested in the sufferer, any confession or any information which may lead to the detection of an offence or misconduct, or for the purpose of constraining the sufferer or any person interested in the sufferer to restore or to cause the restoration of any property or valuable security or to satisfy any claim or demand, or to give information which may lead to the restoration of any property or valuable security, shall be punished with imprisonment of either description for a term which may extend to seven years, and shall also be liable to fine.

Illustrations -

(a) A, a police officer, tortures Z in order to induce Z to confess that he committed a crime. A is guilty of an offence under this section.

(b) A, a police officer, tortures B to induce him to point out where certain stolen property is deposited. A is guilty of an offence under this section.

(c) A, a revenue officer, tortures Z in order to compel him to pay certain arrears of revenue due from Z. A is guilty of an offence under this section.

(d) A, a zamindar, tortures a raiyat in order to compel him to pay his rent. A is guilty of an offence under this section.



Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section 327 of Indian Penal Code 1860:

Roshan Lal & Ors vs State Of Punjab on 3 December, 1964

Supreme Court of India Cites 16 - Cited by 37 - Full Document

Indu Jain vs State Of M.P & Ors on 23 October, 2008

State Of Rajasthan vs Om Prakash Sharma on 21 July, 2008

Sham Kant vs State Of Maharashtra on 15 February, 1992

The State Of Andhra Pradesh vs N. Venugopal And Others on 9 May, 1963

Sumedh Singh Saini vs The State Of Punjab on 3 December, 2020

Sanganagouda A. Veeranagouda And  vs State Of Karnataka on 29 September, 2005

Munshi Singh Gautam (D) & Ors vs State Of M.P on 16 November, 2004

Gauri Shanker Sharma Etc vs State Of U.P. Etc on 12 January, 1990

Eradu And Ors. vs State Of Hyderabad on 1 November, 1955



आईपीसी, 1860 (भारतीय दंड संहिता) की धारा 327 का विवरण -संस्वीकृति उद्दापित करने या विवश करके संपत्ति का प्रत्यावर्तन कराने के लिए स्वेच्छया उपहति कारित करना -

जो कोई इस प्रयोजन से स्वेच्छया उपहति कारित करेगा कि उपहत व्यक्ति से या उससे हितबद्ध किसी व्यक्ति से कोई संस्वीकृति या कोई जानकारी, जिससे किसी अपराध अथवा अवचार का पता चल सके, उद्दापित की जाए, अथवा उपहत व्यक्ति या उससे हितबद्ध व्यक्ति को मजबूर किया जाए कि वह कोई संपत्ति या मूल्यवान प्रतिभूति प्रत्यावर्तित करे, या करवाए, या किसी दावे या माँग की पुष्टि, या ऐसी जानकारी दे, जिससे किसी सम्पत्ति या मूल्यवान प्रतिभूति का प्रत्यावर्तन कराया जा सके, वह दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि सात वर्ष तक की हो सकेगी, दण्डित किया जाएगा और जुर्माने से भी दण्डनीय होगा।

दृष्टांत -

(क) क, एक पुलिस ऑफिसर, य को यह संस्वीकृति करने को कि उसने अपराध किया है उत्प्रेरित करने के लिए यातना देता है। क इस धारा के अधीन अपराध का दोषी है।

(ख) क, एक पुलिस ऑफिसर, यह बतलाने को कि अमुक चुराई हुई संपत्ति कहाँ रखी है उत्प्रेरित करने के लिए ख को यातना देता है। क इस धारा के अधीन अपराध का दोषी है।

(ग) क, एक राजस्व ऑफिसर, राजस्व की वह बकाया, जो य द्वारा शोध्य है, देने को य को विवश करने के लिए उसे यातना देता है। क इस धारा के अधीन अपराध का दोषी है। 

(घ) क, एक जमींदार, भाटक देने को विवश करने के लिए अपनी एक रैयत को यातना देता है। क इस धारा के अधीन अपराध का दोषी है।



To download this dhara of IPC in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.

Comments

Popular posts from this blog

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

संविधान के अनुच्छेद 19 में मूल अधिकार | Fundamental Right of Freedom in Article 19 of Constitution