Section 43 The Army Act, 1950

 

Section 43 The Army Act, 1950 in Hindi and English 




Section 43 The Army Act, 1950  :Fraudulent enrolment. Any person subject to this Act who commits any of the following offences,

that is to say,-

(a) without having obtained a regular discharge from the corps or department to which he belongs, or

otherwise fulfilled the conditions enabling him to enrol or enter, enrols himself in, or enters the same or

any other corps or department or any part of the naval or air forces of India or the Territorial Army; or

(b) is concerned in the enrolment in any part of the Forces of any person when he knows or has

reason to believe such

person to be so circumstanced that by enrolling he commits an offence against this Act; shall, on

conviction by court- martial, be liable to suffer imprisonment for a term which may extend to five years

or such less punishment as is in this Act mentioned.




Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section 43 of The Army Act, 1950  :

U.O.I. & Ors vs Harjeet Singh Sandhu on 11 April, 2001

Union Of India & Ors vs O. Chakradhar on 19 February, 2002

Shri Munshi Ram & Anr vs Union Of India & Ors on 10 August, 2000



सेना अधिनियम, 1950 की धारा 43 का विवरण :  - कपटपूर्ण अभ्यावेशन - इस अधिनियम के अध्यधीन का कोई व्यक्ति जो निम्नलिखित अपराधों में से कोई अपराध करेगा, अर्थात्

(क) उस कोर या विभाग से, जिसका वह अंग है, नियमित उन्मोचन अभिप्राप्त किए बिना या उन शर्तों को जो उसे अभ्यावेशित या प्रविष्ट होने के लिए समर्थ करती हैं अन्यथा पूरी किए बिना उसी या किसी अन्य कोर या विभाग में भारत के नौसेनिक या वायु सैनिक बल के किसी भाग में या प्रादेशिक सेना में अभ्यावेशित या प्रविष्ट होगा, अथवा

(ख) बल के किसी भाग में किसी व्यक्ति के अभ्यावेशन से, तब सम्पृक्त होगा जब वह यह जानता है या विश्वास करने का कारण रखता है कि ऐसा व्यक्ति ऐसी परिस्थितियों में है कि अभ्यावेशित होने से वह इस अधिनियम के विरुद्ध अपराध करता है, सेना-न्यायालय द्वारा दोषसिद्धि पर कारावास, जिसकी अवधि पांच वर्ष तक की हो सकेगी या ऐसा लघुतर दंड, जो इस अधिनियम में वर्णित है, भोगने के दायित्व के अधीन होगा।



To download this dhara / Section of Contract Act in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.

Comments

Popular posts from this blog

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

संविधान के अनुच्छेद 19 में मूल अधिकार | Fundamental Right of Freedom in Article 19 of Constitution