Section 67 IPC in Hindi

 Section 67 IPC in Hindi and English


Section 67 of IPC 1860:-Imprisonment for non-payment of fine, when offence punishable with fine only -

If the offence be punishable with fine only, the imprisonment which the Court imposes in default of payment of the fine shall be simple, and the term for which the Court directs the offender to be imprisoned, in default of payment of fine, shall not exceed the following scale,

that is to say, for any term not exceeding two months when the amount of the fine shall not exceed fifty rupees,

and for any term not exceeding four months when the amount shall not exceed one hundred rupees,

and for any term not exceeding six months in any other case.


Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section 67 of Indian Penal Code 1860: 

Bashiruddin Ashraf vs The State Of Bihar on 25 April, 1957


आईपीसी, 1860 (भारतीय दंड संहिता) की धारा 67 का विवरण - जुर्माना न देने पर कारावास, जबकि अपराध केवल जुर्माने से दण्डनीय हो -

यदि अपराध केवल जुर्माने से दण्डनीय हो तो वह कारावास, जिसे न्यायालय जुर्माना देने में व्यतिक्रम होने की दशा के लिए अधिरोपित करे, सादा होगा और वह अवधि, जिसके लिए जुर्माना देने में व्यतिक्रम होने की दशा के लिए न्यायालय अपराधी को कारावासित करने का निर्देश दे; निम्न मापमान से अधिक नहीं होगी, अर्थात्,--

जबकि जुर्माने का परिमाण पचास रुपए से अधिक न हो तब दो मास से अनधिक कोई अवधि,

तथा जबकि जुर्माने का परिमाण एक सौ रुपए से अधिक न हो तब चार मास से अनधिक कोई अवधि,

तथा किसी अन्य दशा में छह मास से अनधिक कोई अवधि।


To download this dhara of IPC in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.


Comments

Popular posts from this blog

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान के अनुच्छेद 19 में मूल अधिकार | Fundamental Right of Freedom in Article 19 of Constitution