Section 174 IPC in Hindi

 Section 174 IPC in Hindi and English


Section 174 of IPC 1860:- Non-attendance in obedience to an order from public servant -

Whoever, being legally bound to attend in person or by an agent at a certain place and time in obedience to a summons, notice, order or proclamation proceeding from any public servant legally competent, as such public servant, to issue the same,

intentionally omits to attend at that place or time, or departs from the place where he is bound to attend before the time at which it is lawful for him to depart,

shall be punished with simple imprisonment for a term which may extend to one month, or with fine which may extend to five hundred rupees, or with both,

or, if the summons, notice, order or proclamation is to attend in person or by agent in a Court of Justice, with simple imprisonment for a term which may extend to six months, or with fine which may extend to one thousand rupees, or with both.

Illustrations -

(a) A, being legally bound to appear before the High Court at Calcutta, in obedience to a subpoena issuing from that Court, intentionally omits to appear. A has committed the offence defined in this section.

(b) A, being legally bound to appear before a District Judge, as a witness, in obedience to a summons issued by that  District Judge intentionally omits to appear. A has committed the offence defined in this section.



Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section 174 of Indian Penal Code 1860:

Kodali Puranchandra Rao & Anr vs The Public Prosecutor, Andhra on 2 September, 1975

Sri Sambhu Das @ Bijoy Das & Anr vs State Of Assam on 15 September, 2010

Radha Mohan Singh @ Lal Saheb And vs State Of U.P. [Alongwith Criminalon 20 January, 2006

Radha Mohan Singh @ Lal Saheb & vs State Of U.P on 20 January, 2006

Aqeel Ahmad vs State Of U.P on 19 December, 2008

Smt. Shakila Abdul Gafar Khan vs Vasant Raghunath Dhoble And Anr on 8 September, 2003

Ramesh vs State Tr.Insp.Of Police on 1 August, 2014

Liyakat & Anr vs State Of Rajasthan on 26 September, 2014

Malkiat Singh And Ors vs State Of Punjab on 10 April, 1991

Sivakumar vs State By Inspector Of Police on 8 December, 2005




आईपीसी, 1860 (भारतीय दंड संहिता) की धारा 174 का विवरण - लोक-सेवक का आदेश न मानकर गैर हाजिर रहना -

जो कोई किसी लोक-सेवक द्वारा निकाले गए उस समन, सूचना, आदेश या उद्घोषणा के पालन में, जिसे ऐसे लोक-सेवक के नाते निकालने के लिए वह वैध रूप से सक्षम हो, किसी निश्चित स्थान और समय पर स्वयं या अभिकर्ता द्वारा हाजिर होने के लिए वैध रूप से आबद्ध होते हुए,

उस स्थान या समय पर हाजिर होने का साशय लोप करेगा, या उस स्थान से, जहां हाजिर होने के लिए वह आबद्ध है, उस समय से पूर्व चला जाएगा, जिस समय चला जाना उसके लिए विधिपूर्ण होता, वह सादा कारावास से, जिसकी अवधि एक मास तक की हो सकेगी या जुर्माने से, जो पांच सौ रुपए तक का हो सकेगा, या दोनों से,

अथवा यदि समन, सूचना, आदेश या उद्घोषणा किसी न्यायालय में स्वयं या किसी अभिकर्ता द्वारा हाजिर होने के लिए है, तो वह सादा कारावास से, जिसकी अवधि छह मास तक की हो सकेगी, या जुर्माने से, जो एक हजार रुपए तक का हो सकेगा, या दोनों से, दण्डित किया जाएगा। 

दृष्टांत  -

(क) क कलकत्ता उच्च न्यायालय द्वारा निकाले गए समन के पालन में उस न्यायालय के समक्ष उपसंजात होने के लिए वैध रूप से आबद्ध होते हुए, उपसंजात होने में साशय लोप करता है। क ने इस धारा में परिभाषित अपराध किया है।

(ख) क जिला न्यायाधीश द्वारा निकाले गए समन के पालन में उस जिला न्यायाधीश के समक्ष साक्षी के रूप में उपसंजात होने के लिए वैध रूप से आबद्ध होते हुए उपसंजात होने में साशय लोप करता है। क ने इस धारा में परिभाषित अपराध किया है।


To download this dhara of IPC in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.

Comments

Popular posts from this blog

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान के अनुच्छेद 19 में मूल अधिकार | Fundamental Right of Freedom in Article 19 of Constitution