Section 172 IPC in Hindi

 Section 172 IPC in Hindi and English


Section 172 of IPC 1860:- Absconding to avoid service of summons or other proceeding –

Whoever absconds in order to avoid being served with a summons, notice or order, proceeding from any public servant legally competent, as such public servant, to issue such summons, notice or order, shall be punished with simple imprisonment for a term which may extend to one month, or with fine which may extend to five hundred rupees, or with both;

or, if the summons or notice or order is to attend in person or by agent, or to [produce a document or an electronic record in a Court of Justice], with simple imprisonment for a term which may extend to six months, or with fine which may extend to one thousand rupees, or with both.



Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section 172 of Indian Penal Code 1860:

(Not Available)


आईपीसी, 1860 (भारतीय दंड संहिता) की धारा 172 का विवरण - समनों की तामील या अन्य कार्यवाही से बचने के लिए फरार हो जाना -

जो कोई किसी ऐसे लोक-सेवक द्वारा निकाले गए समन, सूचना या आदेश की तामील से बचने के लिए फरार हो जाएगा, जो ऐसे लोकसेवक के नाते ऐसे समन, सूचना या आदेश को निकालने के लिए वैध रूप से सक्षम हो, वह सादा कारावास से, जिसकी अवधि एक मास तक की हो सकेगी, या जुर्माने से, जो पांच सौ रुपए तक का हो सकेगा, या दोनों से,

अथवा यदि समन या सूचना या आदेश किसी न्यायालय में स्वयं या अभिकर्ता द्वारा हाजिर होने के लिए, या दस्तावेज अथवा इलेक्ट्रानिक अभिलेख पेश करने के लिए हो, तो वह सादा कारावास से, जिसकी अवधि छह मास तक की हो सकेगी, या जुर्माने से, जो एक हजार रुपए तक का हो सकेगा, या दोनों से, दण्डित किया जाएगा।


To download this dhara of IPC in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.

Comments

Popular posts from this blog

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

संविधान के अनुच्छेद 12 के अनुसार राज्य | State in Article 12 of Constitution