Section 158 IPC in Hindi

 Section 158 IPC in Hindi and English


Section 158 of IPC 1860:- Being hired to take part in an unlawful assembly or riot -

Whoever is engaged, or hired, or offers or attempts to be hired or engaged, to do or assist in doing any of the acts specified in section 141, shall be punished with imprisonment of either description for a term which may extend to six months, or with fine, or with both,

or to go armed - and whoever, being so engaged or hired as aforesaid, goes armed, or engages or offers to go armed, with any deadly weapon or with anything which used as a weapon of offence is likely to cause death, shall be punished with imprisonment of either description for a term which may extend to two years, or with fine, or with both.



Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section 158 of Indian Penal Code 1860:

Amrutbhai Shambhubhai Patel vs Sumanbhai Kantibhai Patel & Ors on 2 February, 2017

Kesho Ram vs Delhi Administration on 3 April, 1974

Ram Naresh Prasad vs State Of Jharkhand & Ors on 12 February, 2009

Srinivas Gundluri & Ors vs M/S. Sepco Electric Power Const on 30 July, 2010

Dharmatma Singh vs Harminder Singh & Ors on 10 May, 2011

Vinay Tyagi vs Irshad Ali @ Deepak & Ors on 13 December, 2012

State Of A.P. & Ors vs M/S. Star Bone Mill & Fertiliser Co on 21 February, 2013

Sardara Singh (Dead) By Lrs. And vs Sardara Singh (Dead) And Ors. on 23 August, 1990

Abhinandan Jha & Ors vs Dinesh Mishra(With Connected on 17 April, 1967

M Siddiq (D) Thr Lrs vs Mahant Suresh Das & Ors on 9 November, 2019


आईपीसी, 1860 (भारतीय दंड संहिता) की धारा 158 का विवरण - विधिविरुद्ध जमाव या बल्वे में भाग लेने के लिए भाड़े पर जाना -

जो कोई धारा 141 में विनिर्दिष्ट कार्यों में से किसी को करने के लिए या करने में सहायता देने के लिए वचनबद्ध किया या भाड़े पर लिया जाएगा या भाड़े पर लिए जाने या वचनबद्ध किए जाने के लिए अपनी प्रस्थापना करेगा या प्रयत्न करेगा, वह दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि छह मास तक की हो सकेगी, या जुर्माने से, या दोनों से, दण्डित किया जाएगा।  

या सशस्त्र चलना - तथा जो कोई पूर्वोक्त प्रकार से वचनबद्ध होने या भाड़े पर लिए जाने पर, किसी घातक आयुध से या ऐसी किसी चीज से, जिससे आक्रामक आयुध के रूप में उपयोग किए जाने पर मृत्यु कारित होनी संभाव्य है, सज्जित होकर चलेगा या सज्जित चलने के लिए वचनबद्ध होगा या अपनी प्रस्थापना करेगा, वह दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि दो वर्ष तक की हो सकेगी, या जुर्माने से, या दोनों से दण्डित किया जाएगा।



To download this dhara of IPC in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.

Comments

Popular posts from this blog

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

संविधान के अनुच्छेद 12 के अनुसार राज्य | State in Article 12 of Constitution