Section 130 IPC in Hindi

Section 130 IPC in Hindi and English


Section 130 of IPC 1860:- Aiding escape of, rescuing or harbouring such prisoner –

Whoever knowingly aids or assists any State prisoner or prisoner of war in escaping from lawful custody, or rescues or attempts to rescue any such prisoner, or harbours or conceals any such prisoner who has escaped from lawful custody, or offers or attempts to offer any resistance to the recapture of such prisoner, shall be punished with imprisonment for life, or with imprisonment of either description for a term which may extend to ten years, and shall also be liable to fine.

Explanation - A State prisoner or prisoner of war, who is permitted to be at large on his parole within certain limits in India, is said to escape from lawful custody if he goes beyond the limits within which he is allowed to be at large.


Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section 130 of Indian Penal Code 1860:

State Of Haryana & Anr vs Jai Singh on 17 February, 2003

State Of Haryana & Others vs Mohinder Singh on 7 February, 2000

Bachan Singh S/O Saudagar Singh vs State Of Punjab on 4 May, 1979

Sunil Dutt Sharma vs State (Govt.Of Nct Of Delhi) on 8 October, 2013

G.M. Morey vs Government Of Andhra Pradesh And on 26 March, 1982

Pyare Lal vs State Of Haryana on 17 July, 2020

D. Ethiraj vs Secretary To Govt. & Ors on 11 October, 2011


आईपीसी, 1860 (भारतीय दंड संहिता) की धारा 130 का विवरण - ऐसे कैदी के निकल भागने में सहायता देना, उसे छुड़ाना या संश्रय देना -

जो कोई जानते हुए किसी राजकैदी या युद्धकैदी को विधिपूर्ण अभिरक्षा से निकल भागने में मदद या सहायता देगा, या किसी ऐसे कैदी को छुड़ाएगा या छुड़ाने का प्रयत्न करेगा, या किसी ऐसे कैदी को, जो विधिपूर्ण अभिरक्षा से निकल भागा है, संश्रय देगा या छिपाएगा या ऐसे कैदी के फिर से पकड़े जाने का प्रतिरोध करेगा या करने का प्रयत्न करेगा, वह आजीवन कारावास से, या दोनों में से किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि दस वर्ष तक की हो सकेगी, दण्डित किया जाएगा और जुर्माने से भी दण्डनीय होगा।  

स्पष्टीकरण - कोई राजकैदी या युद्धकैदी, जिसे अपने पैरोल पर भारत में कतिपय सीमाओं के भीतर यथेच्छ विचरण की अनुज्ञा है, विधिपूर्ण अभिरक्षा से निकल भागा है, यह तब कहा जाता है, जब वह उन सीमाओं से परे चला जाता है, जिनके भीतर उसे यथेच्छ विचरण की अनुज्ञा है।


To download this dhara of IPC in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.


Comments

Popular posts from this blog

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान के अनुच्छेद 19 में मूल अधिकार | Fundamental Right of Freedom in Article 19 of Constitution