Section 13 of Hindu Marriage Act in Hindi & English

 Section 13 HMA in Hindi and English / हिन्दू विवाह अधिनियम 1955



Section 13 of Hindu Marriage Act 1955 - 


Divorce -


(1) Any marriage solemnized, whether before or after the commencement of this Act, may, on a petition presented by either the husband or the wife, be dissolved by a decree of divorce on the ground that the other party -


(i) has, after the solemnization of the marriage, had voluntary sexual intercourse with any person other than his or her spouse; or


(ia) has, after the solemnization of the marriage, treated the petitioner with cruelty; or (ib) has deserted the petitioner for a continuous period of not less than two years immediately preceding the presentation of the petition; or


(ii) has ceased to be a Hindu by conversion to another religion; or


(iii) has been incurably of unsound mind, or has been suffering continuously or intermittently from mental disorder of such a kind and to such an extent that the petitioner cannot reasonably be expected to live with the respondent.


Explanation - In this clause :(a) the expression "mental disorder” means mental illness, arrested or incomplete development of mind, psychopathic disorder or any other disorder or disability of mind and includes schizophrenia; the expression "psychopathic disorder" means a persistent disorder or disability of mind (whether or not including sub-normality of intelligence) which results in abnormally aggressive or seriously irresponsible conduct on the part of the other party, and whether or not it requires or is susceptible to medical treatment; or


(iv) has been suffering from a virulent and incurable form of leprosy; or


(v) has been suffering from venereal disease in a communicable form; or


(vi) has renounced the world by entering any religious order; or


(vii) has not been heard of as being alive for a period of seven years or more by those persons who would naturally have heard of it, had that party been alive;


Explanation — In this sub-section, the expression “desertion" means the desertion of the petitioner by the other party to the marriage without reasonable cause and without the consent or against the wish of such party, and includes the wilful neglect of the petitioner by the other party to the marriage, and its grammatical variations and cognate expressions shall be construed accordingly.


(1A) Either party to a marriage, whether solemnized before or after the commencement of this Act, may also present a petition for the dissolution of the marriage by a decree of divorce on the ground -


(i) that there has been no resumption of cohabitation as between the parties to the marriage for a period of one year or upwards after the passing of a decree for judicial separation in a proceeding to which they were parties; or


(ii) that there has been no restitution of conjugal rights as between the parties to the marriage for a period of one year or upwards after the passing of a decree for restitution of conjugal rights in a proceeding to which they were parties.


(2) A wife may also present a petition for the dissolution of her marriage by a decree of divorce on the ground


(i) in the case of any marriage solemnized before the commencement of this Act, that the husband had married again before such commencement or that any other wife of the husband married before such commencement was alive at the time of the solemnization of the marriage of the petitioner:


Provided that in either case the other wife is alive at the time of the presentation of the petition; or


(ii) that the husband has, since the solemnization of the marriage, been guilty of rape, sodomy or bestiality; or


(iii) that in a suit under section 18 of the Hindu Adoptions and Maintenance Act, 1956 (78 of 1956), or in a proceeding under section 125 of the Code of Criminal Procedure, 1973 (2 of 1974) (or under the corresponding section 488 of the Code of Criminal Procedure, 1898 (5 of 1898)], a decree or order, as the case may be, has been passed against the husband awarding maintenance to the wife notwithstanding that she was living apart and that since the passing of such decree or order, cohabitation between the parties has not been resumed for one year or upwards;


(iv) that her marriage (whether consummated or not) was solemnized before she attained the age of fifteen years and she has repudiated the marriage after attaining that age but before attaining the age of eighteen years.


Explanation - This clause applies whether the marriage was solemnized before or after the commencement of the Marriage Laws (Amendment) Act, 1976 (68 of 1976).]



Supreme Court of India Important Judgments Related to Section 13 of Hindu Marriage Act 1955 : 

Smt. Lata Kamat vs Vilas on 29 March, 1989

Hirachand Srinivas Managaonkar vs Sunanda on 20 March, 2001

Gurbux Singh vs Harminder Kaur on 8 October, 2010

Y. Narasimha Rao And Ors vs Y. Venkata Lakshmi And Anr on 9 July, 1991

Anil Kumar Jain vs Maya Jain on 1 September, 2009

Smt. Chand Dhawan vs Jawaharlal Dhawan on 11 June, 1993

Kollam Chandra Sekhar vs Kollam Padma Latha on 17 September, 2013

Suman Kapur vs Sudhir Kapur on 7 November, 2008

Suman Kapur vs Sudhir Kapur on 7 November, 2008

Dharmendra Kumar vs Usha Kumar on 19 August, 1977

Pankaj Mahajan vs Dimple @ Kajal on 30 September, 2011

Vishnu Dutt Sharma vs Manju Sharma on 27 February, 2009

Darshan Gupta vs Radhika Gupta on 1 July, 2013

Chetan Dass Appellant vs Kamla Devi Respondent on 17 April, 2001

Smt. Saroj Rani vs Sudarshan Kumar Chadha on 8 August, 1984

Rohtash Singh vs Smt. Ramendri And Ors on 2 March, 2000

Smt. Swati Verma vs Rajan Verma And Ors. on 11 November, 2003

Rameshchandra Rampratapji Daga vs Rameshwari Rameshchandra Daga on 13 December, 2004

Lily Thomas, Etc. Etc vs Union Of India & Ors on 5 May, 2000

Manisha Tyagi vs Deepak Kumar on 10 February, 2010

Guda Vijayalakshmi vs Guda Ramchandra Sekhara Sastry on 13 March, 1981

Ashok Kumar Jain vs Sumati Jain on 15 April, 2013

Ajay Lawania vs Shobhna Dubey on 11 September, 2009

Mrs. Payal Ashok Kumar Jindal vs Capt. Ashok Kumar Jindal on 6 May, 1992

Lila Gupta vs Laxmi Narain & Ors on 4 May, 1978

Jagraj Singh vs Birpal Kaur on 13 February, 2007

Smt. Sarla Mudgal, President vs Union Of India & Ors on 10 May, 1995

Smt. Yallawwa vs Smt. Shantavva on 8 October, 1996

Chandra Mohini Srivastava vs Avinash Prasad Srivastava & Anr on 13 October, 1966

Lily Thomas, Etc. Etc. vs Union Of India & Ors. on 5 April, 2000

High Court Judgments- 

Santosh Acharya (Smt.) vs Narsingh Lal on 13 November, 1997 -Rajasthan High Court  

Raghbir Singh vs Satpal Kaur on 5 April, 1972 - Punjab-Haryana High Court  

Hindu Marriage Act,1955 And Special Marriage Act, 1954 - Law Commission Report 

Pavuluri Murahari Rao vs Povuluri Vasantha Manohari on 11 March, 1983 - Andhra High Court  

Mahesh Belwal vs Poonam Belwal on 19 February, 2020 - Uttarakhand High Court  

Laxmibai Laxmichand Shah vs Laxmichand Ravaji Shah on 30 March, 1967 - Bombay High Court  

Harvinder Kaur vs Harmander Singh Choudhry on 15 November, 1983 - Delhi High Court  

Shashi Kumar Khanna vs Romila on 10 March, 2000 - Punjab-Haryana High Court  

Smt. Monika Gupta vs Jitendra Gandhi on 6 August, 2019 - Allahabad High Court  

Smt.K.Kavith vs Shiva Shankar on 14 July, 2014 - Andhra High Court  



धारा 13 हिन्दू विवाह अधिनियम 1955 का विवरण - 


तलाक-


(1) कोई विवाह, भले वह इस अधिनियम के प्रारम्भ के पूर्व या पश्चात् अनुष्ठित हुआ हो, या तो पति या पत्नी पेश की गयी याचिका पर तलाक की आज्ञप्ति द्वारा एक आधार पर भंग किया जा सकता है कि -


(i) दूसरे पक्षकार ने विवाह के अनुष्ठान के पश्चात् अपनी पत्नी या अपने पति से भिन्न किसी व्यक्ति , के साथ स्वेच्छया मैथुन किया है; या



 

(i-क) विवाह के अनुष्ठान के पश्चात् अर्जीदार के साथ क्रूरता का बर्ताव किया है; या



 

(i-ख) अर्जी के उपस्थापन के ठीक पहले कम से कम दो वर्ष की कालावधि तक अर्जीदार को अभित्यक्त रखा है; या


(ii) दूसरा पक्षकार दूसरे धर्म को ग्रहण करने से हिन्दू होने से परिविरत हो गया है, या


(iii) दूसरा पक्षकार असाध्य रूप से विकृत-चित रहा है लगातार या आन्तरायिक रूप से इस किस्म के और इस हद तक मानसिक विकार से पीड़ित रहा है कि अर्जीदार से युक्ति-युक्त रूप से आशा नहीं की जा सकती है कि वह प्रत्यर्थी के साथ रहे।


स्पष्टीकरण -


(क) इस खण्ड में 'मानसिक विकार' अभिव्यक्ति से मानसिक बीमारी, मस्तिष्क का संरोध या अपूर्ण विकास, मनोविक्षेप विकार या मस्तिष्क का कोई अन्य विकार या अशक्तता अभिप्रेत है और इनके अन्तर्गत विखंडित मनस्कता भी है;


(ख) 'मनोविक्षेप विषयक विकार' अभिव्यक्ति से मस्तिष्क का दीर्घ स्थायी विकार या अशक्तता (चाहे इसमें वृद्धि की अवसामान्यता हो या नहीं) अभिप्रेत है जिसके परिणामस्वरूप अन्य पक्षकार का आचरण असामान्य रूप से आक्रामक या गम्भीर रूप से अनुत्तरदायी हो जाता है और उसके लिये चिकित्सा उपचार अपेक्षित हो या नहीं, या किया जा सकता हो या नहीं, या


(iv) दूसरा पक्षकार याचिका पेश किये जाने से अव्यवहित उग्र और असाध्य कुष्ठ रोग से पीड़ित रहा है; या


(v) दूसरा पक्षकार याचिका पेश किये जाने से अव्यवहित यौन-रोग से पीड़ित रहा है; या



 

 (vi) दूसरा पक्षकार किसी धार्मिक आश्रम में प्रवेश करके संसार का परित्याग कर चुका है; या



 

(vii) दूसरे पक्षकार के बारे में सात वर्ष या अधिक कालावधि में उन लोगों के द्वारा जिन्होंने दूसरे पक्षकार के बारे में, यदि वह जीवित होता तो स्वभावत: सुना होता, नहीं सुना गया है कि जीवित है।


स्पष्टीकरण -


इस उपधारा में 'अभित्यजन' पद से विवाह के दूसरे पक्षकार द्वारा अर्जीदार का युक्तियुक्त कारण के बिना और ऐसे पक्षकार की सम्मति के बिना या इच्छा के विरुद्ध अभित्यजन अभिप्रेत है और इसके अन्तर्गत विवाह के दूसरे पक्ष द्वारा अर्जीदार की जानबूझकर उपेक्षा भी है और इस पद के व्याकरणिक रूपभेद तथा सजातीय पदों के अर्थ तदनुसार किये जायेंगे।


(1-क) विवाह में का कोई भी पक्षकार चाहे वह इस अधिनियम के प्रारम्भ के पहले अथवा पश्चात् अनुष्ठित हुआ हो, तलाक की आज्ञप्ति द्वारा विवाह-विच्छेद के लिए इस आधार पर कि


(i) विवाह के पक्षकारों के बीच में, इस कार्यवाही में जिसमें कि वे पक्षकार थे, न्यायिक पृथक्करण की आज्ञप्ति के पारित होने के पश्चात् एक वर्ष या उससे अधिक की कालावधि तक सहवास का पुनरारम्भ नहीं हुआ है; अथवा


(ii) विवाह के पक्षकारों के बीच में, उस कार्यवाही में जिसमें कि वे पक्षकार थे, दाम्पत्य अधिकारों के प्रत्यास्थापन की आज्ञप्ति के पारित होने के एक वर्ष पश्चात् एक या उससे अधिक की कालावधि तक, दाम्पत्य अधिकारों का प्रत्यास्थापन नहीं हुआ है;


याचिका प्रस्तुत कर सकता है।


(2) पत्नी तलाक की आज्ञप्ति द्वारा अपने विवाह-भंग के लिए याचिका :-


(i) इस अधिनियम के प्रारम्भ के पूर्व अनुष्ठित किसी विवाह की अवस्था में इस आधार पर उपस्थित कर सकेगी कि पति ने ऐसे प्रारम्भ के पूर्व फिर विवाह कर लिया है या पति की ऐसे प्रारम्भ से पूर्व विवाहित कोई दूसरी पत्नी याचिकादात्री के विवाह के अनुष्ठान के समय जीवित थी;


परन्तु यह तब जब कि दोनों अवस्थाओं में दूसरी पत्नी याचिका पेश किये जाने के समय जीवित हो; या



 

(ii) इस आधार पर पेश की जा सकेगी कि पति विवाह के अनुष्ठान के दिन से बलात्कार, गुदामैथुन या पशुगमन का दोषी हुआ है; या


(iii) कि हिन्दू दत्तक ग्रहण और भरण-पोषण अधिनियम, 1956 की धारा 18 के अधीन वाद में या दण्ड प्रक्रिया संहिता, 1973 की धारा 125 के अधीन (या दण्ड प्रक्रिया संहिता, 1898 की तत्स्थानी धारा 488 के अधीन) कार्यवाही में यथास्थिति, डिक्री या आदेश, पति के विरुद्ध पत्नी को भरण-पोषण देने के लिए इस बात के होते हुए भी पारित किया गया है कि वह अलग रहती थी और ऐसी डिक्री या आदेश के पारित किये जाने के समय से पक्षकारों में एक वर्ष या उससे अधिक के समय तक सहवास का पुनरारम्भ नहीं हुआ है; या


(iv) किसी स्त्री ने जिसका विवाह (चाहे विवाहोत्तर सम्भोग हुआ हो या नहीं) उस स्त्री के पन्द्रह वर्ष की आयु प्राप्त करने के पूर्व अनुष्ठापित किया गया था और उसने पन्द्रह वर्ष की आयु प्राप्त करने के पश्चात् किन्तु अठारह वर्ष की आयु प्राप्त करने के पूर्व विवाह का निराकरण कर दिया है।


स्पष्टीकरण — यह खण्ड लागू होगा चाहे विवाह, विवाह विधि (संशोधन) अधिनियम, 1976 (1976 का 68) के प्रारम्भ के पूर्व अनुष्ठापित किया गया हो या उसके पश्चात्।

Comments

Popular posts from this blog

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

संविधान के अनुच्छेद 12 के अनुसार राज्य | State in Article 12 of Constitution