Section 106 IPC in Hindi

 Section 106 IPC in Hindi and English


Section 106 of IPC 1860:-  Right of private defence against deadly assault when there is risk of harm to innocent person -

If in the exercise of the right of private defence against an assault which reasonably causes the apprehension of death, the defender be so situated that he cannot effectually exercise that right without risk of harm to an innocent person, his right of private defence extends to the running of that risk.

Illustration -

POSTA is attacked by a mob who attempt to murder him. He cannot effectually exercise his right of private defence without firing on the mob, and he cannot fire without risk of harming young children who are mingled with the mob. A commits no offence if by so firing he harms any of the children.


Supreme Court of India Important Judgments And Case Law Related to Section 106 of Indian Penal Code 1860: 

Kashi Ram & Others vs State Of Rajasthan on 28 January, 2008

Mohammad Khan & Ors vs State Of Madhya Pradesh on 21 October, 1971

Bhanwar Singh & Ors vs State Of M.P on 16 May, 2008

P. Arulswami vs The State Of Madras on 29 August, 1966

Abid vs State Of U.P on 7 July, 2009

Sukumaran vs State Rep. By The Inspector Of on 7 March, 2019

State Of Karnataka vs Madesha And Ors on 1 August, 2007

Rajinder & Ors vs State Of Haryana on 12 July, 1995

Hari Chand & Anr vs State Of Delhi on 12 February, 1996

State Of Rajasthan Etc. Gokula vs Ram Bharosi & Ors., State Of  on 12 August, 1998


आईपीसी, 1860 (भारतीय दंड संहिता) की धारा 106 का विवरण - घातक हमले के विरुद्ध प्राइवेट प्रतिरक्षा का अधिकार जबकि निर्दोष व्यक्ति को अपहानि होने की जोखिम है -

जिस हमले से मृत्यु की आशंका युक्तियुक्त रूप से कारित होती है उसके विरुद्ध प्राइवेट प्रतिरक्षा के अधिकार का प्रयोग करने में यदि प्रतिरक्षक ऐसी स्थिति में हो कि निर्दोष व्यक्ति की अपहानि की जोखिम के बिना वह उस अधिकार का प्रयोग कार्यसाधक रूप से न कर सकता हो तो उसके प्राइवेट प्रतिरक्षा के अधिकार का विस्तार वह जोखिम उठाने तक का है।

दृष्टांत -

क, पर एक भीड़ द्वारा आक्रमण किया जाता है, जो उसकी हत्या करने का प्रयत्न करती है। वह उस भीड़ पर गोली चलाए बिना प्राइवेट प्रतिरक्षा के अपने अधिकार का प्रयोग कार्यसाधक रूप से नहीं कर सकता, और वह भीड़ में मिले हुए छोटे-छोटे शिशुओं को अपहानि करने की जोखिम उठाए बिना गोली नहीं चला सकता। यदि वह इस प्रकार गोली चलाने से उन शिशुओं में से किसी शिशु को अपहानि करे तो क कोई अपराध नहीं करता।


To download this dhara of IPC in pdf format use chrome web browser and use keys [Ctrl + P] and save as pdf.

Comments

Popular posts from this blog

भारतीय संविधान से संबंधित 100 महत्वपूर्ण प्रश्न उतर

संविधान की प्रमुख विशेषताओं का उल्लेख | Characteristics of the Constitution of India

संविधान के अनुच्छेद 12 के अनुसार राज्य | State in Article 12 of Constitution